Harbhajan Singh: Lots of work is needed to improve cricket infrastructure in Punjab
हरभजन सिंह। © AFP

चेन्‍नई सुपर किंग्‍स के स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह का मानना है कि पंजाब में टैलेंट की किसी प्रकार से कमी नहीं है। बड़ी संख्‍या में बच्‍चे आगे आ रहे हैं और अच्‍छा खेल दिखा रहे हैं। हमें इन बच्‍चों को प्रोत्‍साहन देने की जरूरत है। बाकी काम ये बच्‍चे खुद-ब-खुद कर लेंगे। मौका था अंडर-19 विश्‍व विजेता टीम के एक पूर्व खिलाड़ी की क्रिकेट एकेडमी के लांच का। हरभजन सिंह अपने परिचित महेश इंद्र सिंह सोढ़ी और उनके बेटे रितिंदर सिंह सोढ़ी की क्रिकेट एकेडमी के लांच पर पहुंचे थे।

सनराइजर्स हैदराबाद के गेंदबाजों से नकल बॉल करना सीखें कोलकाता के तेज गेंदबाज: दिनेश कार्तिक
सनराइजर्स हैदराबाद के गेंदबाजों से नकल बॉल करना सीखें कोलकाता के तेज गेंदबाज: दिनेश कार्तिक

भज्‍जी ने कहा, ” पंजाब में स्‍पोर्ट्स इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर की भारी कमी है। ऐसे में इस तरह के बहुत एकेडमी बनानी होंगी। सरकार की तरफ से इस दिशा में कुछ करने की जरूरत है, ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा बच्‍चे आगे आ सकें। पंजाब में टैलेंट की कमी नहीं है। बस हमें उनके लिए कुछ करना होगा।” रितिंदर सिंह सोढ़ी साल 2000 में अंडर-19 विश्‍वकप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्‍सा थे। उन्‍होंने अपनी एकेडमी की शुरुआत करते वक्‍त मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, “मुझे उम्‍मीद है कि मेरे तुजुर्बे से युवाओं को क्रिकेट में नया सीखने का मौका मिलेगा। उन्‍होंने बताया मुंबई इंडियंस की टीम में मौजूदा समय में खेल रहे पर्पल कैप होल्‍डर मयंक मर्कंडेय उनके पिता से कोचिंग ले चुके हैं।

मेरे पिता ने पटियाला में साल 1999 में क्रिकेट एकेडमी की शुरुआत की थी। अब हम अपने गांव में रिजनल स्‍तर पर क्रिकेट को बढ़ावा देना चाहते हैं।” पहले 10 सीजन में मुंबई की टीम में खेल चुके हरभजन सिंह इस सीजन में चेन्‍नई सुपर किंग्‍स की तरफ से आईपीएल में उतरे हैं।