Hardik Pandya needs to work hard to achieve success as all-rounder, says Kapil Dev
Hardik Pandya (left) and Kapil Dev (Image courtesy: AFP)

हार्दिक पांडया ने दक्षिण अफ्रीका की जमीन पर टेस्‍ट मैचों के दौरान मुश्किल वक्‍त पर टीम के लिए 94 रन की पारी क्‍या खेली हर किसी ने उसकी तुलना दिग्‍गज ऑलराउंडर कपिल देव से करनी शुरू कर दी। ऐसा होना लाजमी भी था क्‍योंकि हार्दिक पांड्या भी कपिल देव की तरह मीडियम फास्‍ट बॉल डाल लेते  हैं। क्रिकेट के पंडितों को ये लगने लगा कि दशकों के बाद भारतीय टीम में कपिल देव जैसा ऑलराउंडर मिल गया है। लेकिन 94 रन की पारी खेलने के अलावा हार्दिक पांड्या पूरे दोरे में एक अर्धशतक भी नहीं बना पाए। कपिल देव ने भी पांड्या की तुलना उनसे किए जाने पर कड़ी आपत्ति जताई थी।

न्‍यूज एजेंसी पीटीआई से बातचीत के दौरान कपिल देव ने हाल ही में कहा, ” पांड्या में अच्छा ऑलराउंडर बनने की योग्‍यता है। मैं चाहता हूं कि वो किसी दबाव में न खेले। अपने नेचुरल खेल का खुल कर प्रदर्शन करे।” कपिल देव का मानना है कि हर ऑलराउंडर केवल एक कौशल में मजबूत होता है। या तो वो अच्‍छा गेंदबाज होता है और ठीक ठाक बल्‍लेबाजी कर लेता है। या फिर उसमें अच्‍छा बल्‍लेबाज होने के साथ साथ ठीक ठाक गेंदबाजी करने की योग्‍यता होती है। पांड्या मुख्‍य रूप से बल्‍लेबाजी पर अपना फोकस करता है। उसे अपनी बल्‍लेबाजी पर ही फोकस करना चाहिए।

कपिल देव ने कहा कि मैं पांड्या को उसके अपने कौशल के दम पर ऑलराउंडर कहलाते हुए देखता चाहता हूं। भले ही वो गेंदबाजी हो या फिर बल्‍लेबाजी हो। अगर पांड्या थोड़ा अधिक भी अपनी बल्‍लेबाजी पर फोकस करे तो उसके लिए गेंदबाजी करना काफी आसान हो जाएगा।

मौजूदा समय में हार्दिक पांड्या पर टीम मैनेजमेंट को काफी भरोसा है। वो कप्‍तान विराट कोहली और कोच रवि शास्‍त्री के काफी विश्‍वासपात्र हैं। यही कारण है कि जिन छह खिलाडि़यों को श्रीलंका टी20 ट्राई सीरीज में आराम दिया गया है उनमें पांड्या भी शामिल हैं। टीम मैनेजमेंट उनका इस्‍तेमाल अगस्‍त महीने में होने वाले इंग्‍लैंड दौरे और साल के अंत में होने वाले ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के दौरान करना चाहता है।

(एजेंसी इनपुट के )