उस्मान ख्वाजा © Getty Images
उस्मान ख्वाजा © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के ओपनर उस्मान ख्वाजा ने एक बड़ा खुलासा किया है। ख्वाजा ने अपने खुलासे में कहा है कि उन्हें जूनियर क्रिकेट खेलने के दौरान नस्लभेद का शिकार होना पड़ा। ख्वाजा ने प्लेयर्स वॉइस.कॉम,एयू पर लिखा, ”सिडनी में खेलने के दौरान मुझे कई बार नस्लभेदी टिप्पणियों का शिकार होना पड़ा। मुझे कई बार ऐसी हरकतों का सामना करना पड़ा। मैं काफी परेशान हो गया था और इसके कारण मैं कई बार दूसरे देशों का समर्थन करने लगता था। नस्लभेदी टिप्पणी के कारण मेरे दूसरे देशों के कई दोस्तों को बीच में ही क्रिकेट छोड़ना पड़ा।”

ख्वाजा ने ये भी कहा, ”जूनियर क्रिकेट के दौरान जब भी मैं अच्छी बल्लेबाजी करता था या रन बनाता था तो लोग मुझे जमकर निशाना बनाते थे। मुझे कई तरह से परेशान किया जाता था। हालांकि मुझे क्रिकेट से काफी प्यार था और इसीलिए मैं आज यहां तक पहुंचा हूं। इसमें कोई दोराय नहीं है कि पहले टीम चयन में नस्लवाद और राजनीति बड़ी भूमिका निभाते थे।” माना जा रहा है कि ख्वाजा को इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली एशेज सीरीज में ऑस्ट्रेलिया की टीम में शामिल किया जा सकता है। ये भी पढ़ें: रणजी ट्रॉफी: मुंबई की तरफ से पहला मैच नहीं खेलेंगे अजिंक्य रहाणे

ख्वाजा को ऑस्ट्रेलिया की तरफ से तीनों फॉर्मेट में खेलने का मौका मिला है। ख्वाजा ने 24 टेस्ट मैचों की 42 पारियों में 45.47 की औसत से 1,728 रन बनाए हैं। टेस्ट क्रिकेट में ख्वाजा के नाम 5 शतक, 8 अर्धशतक हैं। इसके अलावा 18 वनडे मैचों में ख्वाजा ने 31.26 की औसत से 469 रन बनाए हैं। वनडे में ख्वाजा ने 4 अर्धशतक लगाए हैं और उनका बेस्ट स्कोर 98 रन रहा है। वहीं उन्होंने 9 टी20 मैचों में 26.77 की औसत से 241 रन बनाए हैं। टी20 में उनके नाम 1 अर्धशतक है।