Ian Chappell: India, England have more captaincy potential players in the team than Australia

बॉल टैंपरिंग विवाद के बाद क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने अपने कप्‍तान स्‍टीवन स्मिथ, उपकप्‍तान डेविड वार्नर पर एक-एक साल का बैन लगा दिया। वहीं कैमरून बैनक्रॉफ्ट पर नौ महीने का बैन लगाया गया। स्मिथ के बाद कप्‍तानी की कमान टिम पेन काे दी गई, लेकिन वो इस जिम्‍मेदारी को निभाने में अबतक पूरी तरह विफल रहे हैं। पहले दक्षिण अफ्रीका में आखिरी टेस्‍ट ऑस्‍ट्रेलिया पेन की कप्‍तानी में हारा। इसके बाद इंग्‍लैंड के खिलाफ पांच मैचों की वनडे सीरीज के पहले चार मुकाबले भी ऑस्‍ट्रेलिया गंवा चुकी है।

पाक कप्‍तान सरफराज बोले- 26 की उम्र में ये खिलाड़ी नहीं छोड़ेगा टेस्‍ट
पाक कप्‍तान सरफराज बोले- 26 की उम्र में ये खिलाड़ी नहीं छोड़ेगा टेस्‍ट

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व दिग्‍गज कप्‍तान इयान चैपल का मनना है कि भारत और इंग्‍लैंड के मुकाबले ऑस्‍ट्रेलिया के पास ऐसे खिलाड़ियों की कमी है जो कप्‍तानी की जिम्‍मेदारी उठा सकें। भारत में विराट कोहली की गैर मौजूदगी में जहां अजिंक्‍य रहाणे ने टीम की कमान अफगानिस्‍तान टेस्‍ट में अच्‍छे से संभाली। वहीं, इंग्‍लैंड के पास भी बैन स्‍टोक्‍स और जॉस बटलर के रूप में ऐसे खिलाड़ी हैं जो कप्‍तानी की कमान संभाल सकते हैं।

हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स में लिखे अपने लेख में इयान चैपल ने कहा, “अजिंक्‍य रहाणे जैसे खिलाड़ियों के पास अपना तरीका है जिससे वो कोहली की गैर माजूदगी में टीम की कप्‍तानी करते हैं। कोहली ने भी धोनी के बाद अपने विजन के साथ भारतीय टीम की कमान संभाली। वहीं, टिम पेन बातचीत के दौरान भी ये कहते नजर आते हैं कि हमारी टीम कोच जस्टिन लैंगर की सोच के तहत प्रैक्टिस कर रही है।”

चैपल के मुताबिक टिप पेन ये मान कर चल रहे हैं कि स्‍टीवन स्मिथ के टीम में वापसी तक ही उन्‍हें ऑस्‍ट्रेलिया की कप्‍तानी संभालनी है। बतौर लीडर वो अपनी कोई खूबी नहीं देखा रहे हैं। ऐसा करके वो बहुत बड़ी गलती कर रहे हैं। चैपल ने कहा, ” किसी सिलेक्‍टर्स के पैनल के लिए कप्‍तान का चुनाव करना सबसे मुश्किल काम है। वो किसी खिलाड़ी की बल्‍लेबाजी वा गेंदबाजी की कला को तो आकलन कर  सकते हैं, लेकिन लीडरशिप क्‍वालिटी का पता लगाना बड़ा मुश्किल काम है।

“धोनी के बाद विराट कोहली को भारतीय टीम की कमान सौंपी गई। कोहली भारतीय अंडर-19 टीम की कमान भी अच्‍छे से संभाल चुके थे। ऑस्‍ट्रेलिया के पास फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में कप्‍तानी प्रतिभा निखारने के कम मौके मिलते हैं।”