Ian Chappell says India have the best opportunity to win the five-Test match series against England
Ian Chappell © AFP

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल को लगता है कि इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में भारत के पास जीत दर्ज करने का सर्वश्रेष्ठ मौका होगा क्योंकि घरेलू टीम कई मोर्चों पर अच्छा नहीं कर रही।

भारत के खिलाफ सीरीज से पहले इंग्‍लैंड ने एंडरसन को दिया आराम
भारत के खिलाफ सीरीज से पहले इंग्‍लैंड ने एंडरसन को दिया आराम

चैपल ने ईएसपीएन क्रिकइंफो वेबसाइट पर अपने कॉलम में लिखा ,‘भारत के पास इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट सीरीज में उनकी सरजमीं पर हराने का दुर्लभ मौका है। लॉर्ड्स के मैदान पर पाकिस्तान से हार के बाद इंग्लैंड की टीम को झटका लगा है। इसके बाद इंग्लैंड ने पाकिस्तान को हेडिंग्ले में हराया तो लेकिन वह प्रभाव छोड़ने में कामयाब नहीं रही।’

चैपल ने इंग्लैंड की टीम में कई खामियां गिनाई जिसमें एलिस्टर कुक के प्रदर्शन के साथ सलामी बल्लेबाजी के लिए उनके जोड़ीदार का बार बार बदलना और तेज गेंदबाजी विभाग में सिर्फ दाएं हाथ के गेंदबाजों का होना शामिल हैं। उन्होंने कहा कि आफ स्पिनर डोम बेस अनुभवहीन है।

चैपल ने लिखा,‘इंग्लैड का शीर्ष क्रम बार-बार चरमरा रहा है। दोनों सलामी बल्लेबाजों के लचर प्रदर्शन से यह आश्चर्यजनक नहीं है। कुक के साथ पारी की शुरूआत के लिए कई बल्लेबाजों को आजमाया गया। कुक का प्रदर्शन भी लचर रहा है।’

पूर्व ऑस्‍ट्रेलियाई कप्‍तान ने कहा,‘कुक ने दो दोहरे शतक जरूर लगाए लेकिन इससे इस तथ्य में कोई बदलाव नहीं आएगा कि उन्होंने पिछले एक साल में 29 टेस्ट पारियों में 19 बार 20 रन से कम की पारी खेली है जिसमें वह दस बार दहाई के आंकड़े तक भी नहीं पहुंचे। अगर सलामी बल्लेबाज लगातार अंतराल पर शतक नहीं लगाता है तो भी उसे यह सुनिश्चित करना होता है कि मध्यक्रम को नयी गेंद का सामना नहीं करना पड़े और कुक इन दोनों मोर्चों पर विफल रहे हैं।’

‘बेस के ऑफ स्पिन से भारतीय बल्‍लेबाज नहीं होंगे परेशान’

स्पिनरों के बारे में बात करते हुए चैपल ने कहा, ‘स्मिथ (चयनकर्ता एड स्मिथ) के चयन में उल्लेखनीय बात ऑफ स्पिनर डॉम बेस का चयन है जो ऊर्जावान क्रिकेटर है।’  उन्होंने कहा,‘उनकी बल्लेबाजी और खेल में बने रहने की जीवटता की तारीफ की जानी चाहिए लेकिन पहली नजर में लगता है कि उनकी ऑफ स्पिन से भारतीय टीम को कोई खास परेशानी नहीं होगी। हेडिंग्ले में एक ओवर में उन्होंने इतनी फुलटॉस गेंद फेंकी जितनी रविचंद्रन अश्विन पूरे साल में भी नहीं फेंकते हैं। ऐसी गेंदबाजी का विराट कोहली और कार्तिक लुत्फ उठाऐंगे।’उन्होने कहा कि एंडरसन जैसे गेंदबाज होने के बाद भी तेज गेंदबाजी में विविधता की कमी का भी अगस्त में होने वाली टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड के प्रदर्शन पर असर पड़ेगा।