ICC proposes to give visiting team practice conditions similar to match

आईसीसी ने अपने सदस्य बोर्ड को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि मेहमान टीमों को तैयारी के लिए खेलने के हालात घरेलू टीम के समान मिले जिसमें नेट गेंदबाजों और ट्रेनिंग पिचों पर जोर दिया गया।

एरोन फिंच ने खेली तूफानी पारी, बना डाला ये शानदार रिकॉर्ड
एरोन फिंच ने खेली तूफानी पारी, बना डाला ये शानदार रिकॉर्ड

डबलिन में कई समाप्त हुई सालाना कांफ्रेंस में आईसीसी की मुख्य कार्यकारी समिति ने फैसला किया कि टीमों को मेजबान बोर्ड द्वारा सभी संसाधन मुहैया कराए जाने चाहिए जिससे कि मेहमान टीम की सर्वश्रेष्ठ संभव तैयारी सुनिश्चित हो सके।

आईसीसी ने बयान में कहा , ‘‘मेहमान टीम को आगामी अंतरराष्ट्रीय मैचों की तैयारी उन हालात में करने का मौका मिलना चाहिए जिनका सामना उन्हें सीरीज के दौरान करना पड़ेगा , इसमें नेट गेंदबाजों का समान स्तर और विविधता तथा ट्रेनिंग पिचें शामिल हैं। टीमों को सामाजिक रूप से घुलने मिलने का मौका भी मुहैया कराया जाना चाहिए।’’
मेहमान टीमों को आमतौर पर ऐसे हालात में अभ्यास मैच खेलने का मौका मिलता है जो सीरीज के दौरान के हालात से बिलकुल विपरीत होते हैं।

सालाना कांफ्रेंस में किए गए अन्य फैसलों में सीईसी ने 2019 विश्व कप के बाद शुरू हो रही विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में खेलने के हालात और अंक के ढांचे को भी स्वीकृति दी।
आईसीसी ने साथ ही बयान में पुष्टि की कि कहा कि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के सभी मैच पांच दिन के होंगे लेकिन सदस्य बोर्ड चार दिवसीय टेस्ट खेलना जारी रख सकते हैं।
पता चला है कि डब्ल्यूटीसी की प्रत्येक सीरीज में अधिकतम 120 अंक दांव पर होंगे और अंक सीरीज की जगह मैचों के लिए दिए जाएंगे जिससे टीमों को अतिरिक्त प्रयास करने की प्रेरणा मिलेगी। ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि सभी टीमों को दो साल के समय के दौरान समान टेस्ट खेलने का मौका नहीं मिलेगा।

संचालन संस्था ने साथी ही पिछले महीने हुए महिला एशिया कप के मैचों को टी 20 अंतरराष्ट्रीय दर्जा देने का फैसला किया। हाल में फैसला किया गया था कि एक जुलाई 2018 के बाद सदस्य बोर्ड के बीच खेले जाने वाले सभी महिला टी 20 मैचों को अंतरराष्ट्रीय दर्जा मिलेगा जिसके बाद सहमति बनी कि हाल में संपन्न महिला टी 20 एशिया कप के मैचों को भी अंतरराष्ट्रीय टी 20 का दर्जा मिलेगा।

आईसीसी विश्व टी 20 2020 की क्वालीफिकेशन प्रक्रिया पूरी होने के बाद एक जनवरी 2019 से सभी सदस्य बोर्ड की पुरुष सीनियर टीमों को टी 20 अंतरराष्ट्रीय दर्जा दिया जाएगा।