India can’t claim No. 1 spot in T20Is if they lift Nidahas Trophy
Virat Kohli © IANS

भारतीय टीम ने दक्षिण अफ्रीका को उसके ही घर में वनडे और टी20 में हराया तो हर जगह कप्‍तान विराट कोहली और उनकी टीम की तारीफ हुई। दक्षिण अफ्रीका जैसी बड़ी टीम को उसके घर जाकर हराने का ये कीर्तिमान केवल कप्‍तान कोहली की अगुवाई में ही संभव हो सका। ऐसे में जीत के बाद घर लौटी टीम के छह बड़े खिलाडि़यों को श्रीलंका और बांग्‍लादेश जैसी कमजोर टीम के खिलाफ शुरू होने वाली निदास टी-20 सीरीज में आराम दिया गया है। टेस्‍ट और वनडे में भारतीय टीम नंबर-एक पर है, लेकिन टी-20 क्रिकेट में नंबर-एक टीम बन पाने की राह फिलहाल इस टीम के लिए दूर ही नजर आती है। आइसीसी रैंकिंग का प्रिडेक्‍टर तो कम से कम ये ही गवाही दे रहा है।

दादा ने अपनी आत्‍मकथा में लिखा, अगर 2003 में धोनी होता तो मेरी कप्‍तानी में भी आता विश्‍व कप
दादा ने अपनी आत्‍मकथा में लिखा, अगर 2003 में धोनी होता तो मेरी कप्‍तानी में भी आता विश्‍व कप

मौजूदा समय में टी-20 रैंकिंग में नंबर-एक और दो पर पाकिस्‍तान और ऑस्‍ट्रेलिया की टीम है। दोनों के पास 126 अंक हैं, लेकिन दशमलव के बाद की गणना के हिसाब से पाकिस्‍तान की टीम पहले स्‍थान पर है। भारत 122 अंक के साथ तीसरे स्‍थान पर है। आइसीसी रैंकिंग का प्रिडेक्‍टर बताता है कि श्रीलंका में अगर भारतीय टीम क्‍लीन स्‍वीप भी करती है तो सारे मैच जीतने के बाद उसे केवल एक अंक ही मिलेगा। जो उसे पहले स्‍थान तक ले जाने के लिए नाकाफी रहेगा। क्रिकेट के जानकार बताते हैं कि पांचों मैच जीतने के बाद भी केवल एक ही अंक मिलने का कारण कमजोर टीमों से मैच जीतना है। बांगलादेश टी-20 में 10वें और श्रीलंका आठवें स्‍थान पर है। अगर भारत को टी20 में ऊंची उड़ान भरनी है तो उसे पाकिस्‍तान और ऑस्‍ट्रेलिया जैसी टीमों का हराना होगा।

आने वाले महीनों में भारत की न तो ऑस्‍ट्रेलिया के साथ कोई सीरीज है और न पड़ोसी देश पाकिस्‍तान के साथ। भारत पाकिस्‍तान के बीच मौजूदा रिश्‍तों को देखते हुए दोनों के बीच द्विपक्षीय सीरीज होने की संभावना नजर नहीं आती है। ऐसे में भारत के लिए टी-20 क्रिकेट में नंबर एक पर आना संभव नहीं है।