भुवनेश्वर कुमार © Getty Images
भुवनेश्वर कुमार © Getty Images

वनडे सीरीज के आखिरी मैच में भी टीम इंडिया ने जबर्दस्त प्रदर्शन किया। 4 मैच गंवा चुकी श्रीलंकाई टीम 5वें वनडे में भुवनेश्वर कुमार के ‘पंजे’ में फंस गई। आखिरी मैच में भुवनेश्वर कुमार ने 42 रन देकर 5 विकेट हासिल किए। बुमराह ने भी दो और कुलदीप यादव-युजवेंद्र चहल ने 1-1 विकेट झटका। एक समय मजबूत स्कोर की ओर बढ़ रही श्रीलंका की टीम 50 ओवर में सिर्फ 238 रन ही बना सकी। श्रीलंका की ओर से एंजेलो मैथ्यूज ने 55 और तिरिमने ने 67 रनों की पारी खेली। मगर ये पारियां भी श्रीलंका को बड़े स्कोर तक नहीं पहुंचा सकी।

श्रीलंका ने जीता टॉस
पिछले दो मुकाबलों में बैन के चलते नहीं खेलने वाले श्रीलंकाई कप्तान उपुल थरंगा 5वें वनडे में कप्तान के तौर पर टीम में लौटे और सिक्के की बाजी को अपने नाम किया। उनका फैसला सही साबित नहीं हुआ क्योंकि भारतीय गेंदबाजों ने 7वें ओवर तक श्रीलंका को दो झटके दे दिए। भुवनेश्वर कुमार ने पहले निरोशन डिकवेला को और फिर मुनावीरा को आउट किया। थरंगा और लाहिरु तिरिमाने ने श्रीलंकाई पारी को संभाला। थरंगा ने तेजी से रन बनाए और वो शार्दुल ठाकुर के खिलाफ खासा आक्रामक दिखाई दिए, लेकिन उनका खेल बुमराह ने खत्म कर दिया। थरंगा को 48 रन पर बुमराह ने पैवेलियन की राह दिखाई। वनडे इतिहास के ‘सर्वश्रेष्ठ’ विकेटकीपर बने एम एस धोनी, लगा दिया ‘शतक’

तीन विकेट गंवाने के बाद मैथ्यूज और तिरिमने ने श्रीलंका की पारी को संभाला। दोनों के बीच 122 रनों की साझेदारी हुई और दोनों ही बल्लेबाजों ने अर्धशतक भी लगाए लेकिन पहले तिरिमने और उसके बाद मैथ्यूज एक के बाद एक आउट हो गए और एक समय 3 विकेट पर 185 रन बना चुकी श्रीलंकाई टीम ने 194 रन पर 5 विकेट गंवा दिए। देखते ही देखते श्रीलंका की पारी सिर्फ 238 रन पर सिमट गई।