India unlikely to play four-day Test matches anytime soon: Report
भारतीय टेस्ट टीम © AFP

आईसीसी ने भले ही ट्रायल के तौर पर चार दिवसीय टेस्ट मैचों की शुरूआत करने का फैसला किया है लेकिन फिलहाल भारतीय क्रिकेट टीम के चार दिवसीय टेस्ट मैच खेलने की संभावना नहीं है। आकलैंड में आईसीसी बोर्ड की बैठक के दौरान चार दिवसीय टेस्ट मैच शुरू करने का फैसला किया गया था। दक्षिण अफ्रीका और जिम्बाब्वे के बीच ‘बाक्सिंग डे’ यानि 26 दिसंबर से पहला चार दिवसीय टेस्ट मैच हो सकता है। बीसीसीआई हालांकि पुराने फॉर्मेट के साथ ही बने रहता चाहता है जैसा कि अनिल कुंबले की अगुवाई वाली आईसीसी क्रिकेट समिति ने सिफारिश की थी। समिति इस तरह के प्रयोग करने के खिलाफ थी।

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘‘भारत फिलहाल चार दिवसीय टेस्ट मैच नहीं खेलेगा। भारत जिस भी टेस्ट मैच में खेलेगा वह पांच दिन का होगा। बीसीसीआई का मानना है कि अनिल कुंबले की अगुवाई वाली क्रिकेट समिति की सिफारिशों में काफी दम है जिसमें कहा गया था कि दिनों की संख्या कम नहीं की जानी चाहिए। लेकिन चार दिवसीय टेस्ट मैच दो बोर्ड के बीच आपसी सहमति पर निर्भर है और अगर दो देशों को इससे आपत्ति नहीं है तो वे इसे अपना सकते हैं।” बीसीसीआई का चार दिवसीय टेस्ट मैच नहीं खेलने का एक और कारण ये भी है कि इन मैचों से आईसीसी की प्रस्तावित टेस्ट लीग के लिये कोई अंक नहीं मिलेगा। [ये भी पढ़ें: न्यूजीलैंड के खिलाफ अभ्यास मैच को मौके की तरह देख रहे हैं श्रेयस अय्यर]

अधिकारी ने कहा, ‘‘केवल पांच दिवसीय टेस्ट मैचों के ही अंक मिलेंगे जिनसे गिनती विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के लिए की जाएगी। ऐसे मैचों में खेलने का क्या मतलब है जिनसे कोई अंक नहीं मिलेगा। अगर हम आयरलैंड या अफगानिस्तान के खिलाफ भी खेलते हैं तो वे पांच दिन के मैच होंगे।” अधिकारी से पूछा गया कि अगर भविष्य में प्रसारकों ने इस तरह के टेस्ट मैचों के लिये दबाव बनाना शुरू कर दिया तो बोर्ड का फैसला क्या होगा,  इस पर उन्होंने कहा, ‘‘जब ऐसा होगा तो देखा जाएगा।’’