विराट कोहली © AFP
विराट कोहली © AFP

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया तीसरा टेस्ट मैच बराबरी पर समाप्त हुआ। मैच में एक समय भारतीय टीम का पलड़ा भारी नजर आ रहा था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के शॉन मार्श और पीटर हैंड्सकॉम्ब भारत की जीत के बीच दीवार बनकर खड़े हो गए और दोनों ने ही भारत की जीत की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। शॉन मार्श ने 197 गेंदों में 53 रनों की पारी खेली, तो वहीं हैंड्सकॉम्ब ने 200 गेंदों में 72 रनों की पारी खेली। जिसकी बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने मैच को ड्रॉ करा लिया। मैच के बाद भारत के कप्तान विराट कोहली ने क्या कुछ कहा आइए जानते हैं। [भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, तीसरा क्रिकेट टेस्ट मैच, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें...]

भारत के कप्तान विराट कोहली ने मैच के बाद कहा, ”हम एक समय मैच जीतने के लिए अच्छी स्थिति में थे। इस पिच पर टॉस हारना आसान नहीं था, लेकिन हमने जबरदस्त वापसी की। दो खिलाड़ियों ने बेहतरीन पारी खेली, उनकी ये पारी मेरे द्वारा देखी गई अब तक की सबसे अच्छी पारियों में से एक है। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के दोनों बल्लेबाजों की तारीफ करनी होगी। जिन्होंने बेहतरीन पारी खेली। हमारे खिलाड़ी टीम के लिए अपना सर्वोच्च दे रहे हैं और इस मुकाबले में भी यही देखने को मिला। इसलिए हम जीती हुई स्थिति में हैं। ऑस्ट्रेलिया को भी श्रेय देना होगा कि कैसे उन्होंने हारे हुए मुकाबले को ड्रॉ में बदल दिया। मुझे पता है कि जब आप सिर्फ एक ही फॉर्मेट खेल रहे होते हैं और लोग आपकी गिनती सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में करते हैं तो ये आपके लिए गर्व की बात होती है। वह कड़ी मेहनत करता है यह पुजारा कि साहा के साथ मिलकर सबसे बेहतरीन पारियों में से एक है। ये बिल्कुल अलग मैच था, लेकिन साहा ने शानदार खेल दिखाया और हमेशा मुस्कुराता रहा, उसके कभी किसी चीज की शिकायत नहीं की। मुझे नहीं लगता कि विकेट में कुछ नहीं था। मुझे लगता है कि गेंद के साथ अच्छा करने की जरूरत थी। अगर आपके पास हर समय सख्त गेंद होती तो आप अंतर पैदा कर सकते थे। जब वो गेंदबाजी कर रहे थे, तब भी आपने देखा कि उन्होंने अच्छी गेंदबाजी की थी। लेकिन इसी को टेस्ट क्रिकेट कहा जाता है। जहां हालात हर समय एक जैसे नहीं होते। जडेजा काबिलेतारीफ था। मैंने कभी भी इतना किफायती गेंदबाज नहीं देखा। उसे अपनी मजबूती पता है। हमें उन्हें श्रेय देना होगा जिस तरह से उन्होंने मैच को ड्रॉ कराया। धर्मशाला के लिए अलग से कोई रणनीति नहीं है और हम अंतिम चुनौती के लिए तैयार हैं।”

इस ड्रॉ के साथ ही अब चार मैचों की टेस्ट सीरीज 1-1 की बराबरी पर आ गई है। और इसके साथ ही सीरीज अब काफी रोमांचक मोड़ पर पहुंच गई है। सीरीज का आखिरी मुकाबला 25 मार्च को धर्मशाला में खेला जाएगा। जहां दोनों टीमों की नजरें आखिरी मैच को जीतकर सीरीज पर कब्जा जमाने की होंगी। पहला मैच ऑस्ट्रेलिया ने जीता, दूसरा भारत ने जीता और तीसरा ड्रॉ रहा। साफ है आईसीसी रैंकिंग में नंबर-1 और नंबर-2 की टीमों के बीच टेस्ट क्रिकेट का सबसे कड़ा मुकाबला खेला जा रहा है। जहां मैच दर मैच सीरीज का नक्शा बदल रहा है। अब देखना दिलचस्प होगा कि आखिरी मैच को जीतने में कौन सी टीम कामयाब होती है, लेकिन इतना तो तय है कि दर्शकों को आखिरी मैच में काफी रोमांचक मुकाबला देखने को मिलेगा।