© AFP
© AFP

भारतीय टेस्ट टीम के सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने बुधवार को कहा कि वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुक्रवार से शुरू हो रही सीरीज में अपना ‘ए’ गेम (सर्वश्रेष्ठ खेल) खेलना चाहते हैं। विजय ने कहा कि वह सकारात्मक मानसिकता के साथ इस सीरीज में उतर रहे हैं।

विजय ने अभ्यास सत्र के बाद संवाददाताओं से कहा, “मैं बस मैदान पर जाना चाहता हूं और जो भी सामने आए, उसका सामना करना चाहता हूं। मैं बस अपना ‘ए’ गेम खेलना चाहता हूं और अपने देश के लिए अच्छा करना चाहता हूं।” उन्होंने कहा, “मैं ज्यादा नहीं सोचना चाहता कि आने वाले दिनों में क्या होगा। मैं बस अपने आप को तैयार करना चाहता हूं और आत्मविश्वास के साथ जाना चाहता हूं जिसमें इस समय मैं हूं।”

दक्षिण अफ्रीका के हालात तेज गेंदबाजों के लिए अच्छे हैं लेकिन विजय का मानना है कि स्पिनरों का रोल भी यहां काफी अहम है। उन्होंने कहा, “यह हकीकत में काफी अहम रोल है क्योंकि इससे तेज गेंदबाजों को भी सहयोग मिलता है। अगर आप मैच में स्पिन गेंदबाजों को खिलाते हैं तो वे कुछ विकेट निकालकर बड़ा रोल अदा कर सकते हैं।” विजय ने कहा कि इस बार वो पिछली बार के मुकाबले अच्छी तरह तैयारी करके आए हैं।

वेरनॉन फिलेंडर ने उठाए भारत की तैयारियों के दावे पर सवाल, दे डाली बड़ी चेतावनी
वेरनॉन फिलेंडर ने उठाए भारत की तैयारियों के दावे पर सवाल, दे डाली बड़ी चेतावनी

विजय ने कहा, “मैं पिछली बार के मुकाबले इस बार अच्छी तैयारी करके आया हूं। टेस्ट मैच में आप बंधी सोच के साथ नहीं जा सकते कि इतनी गेंद खेलने है या इतनी छोड़नी ही है। आपको गेंद छोड़ने के साथ ही ये पता होना चाहिए कि आपको रन कैसे बनाने हैं।” पिच के बारे में विजय ने कहा, “ये काफी हरी है। मैं नहीं जानता कि यह पहले दिन किस तरह का बर्ताव करेगी। एक सलामी बल्लेबाज के लिए, स्विंग का सामना बाउंस के मुकाबले ज़्यादा मुश्किल होता है। निजी तौर पर मुझे लगता है कि मैं बाउंस से निपट लूंगा लेकिन अगर गेंद स्विंग हो रही हो तो किसी भी बल्लेबाज के लिए मुश्किल होती है।”