एम एस धोनी © Getty Images
एम एस धोनी © Getty Images

मोहाली वनडे में टीम इंडिया की फील्डिंग के दौरान एक ऐसी घटना घटी जिसके बाद धोनी के कई फैंस की एक पल के लिए सांसें थम गई। श्रीलंकाई पारी के 31वें ओवर में युजवेंद्र चहल की गेंद पर श्रीलंका के कप्तान थिसारा परेरा ने स्वीप खेलने की कोशिश की जिसके बाद गेंद ने उनके बल्ले का अंदरुनी किनारा लिया और वो पैड पर भी लगी। इसके बाद गेंद विकेट के पीछे गई जहां चौकन्ने खड़े एम एस धोनी ने अपने दांए ओर छलांग लगाकर जबर्दस्त कैच लपका। इस कैच को पकड़ने के दौरान एम एस धोनी के विकेट के पीछे खड़े एम एस धोनी के बाएं हाथ में चोट लग गई। धोनी अपनी बांई कोनी को सहलाते नजर आए। हालांकि धोनी मैदान पर डटे रहे और खबर है कि धोनी की ये चोट ज्यादा गंभीर नहीं है।

मोहाली वनडे में भले ही एम एस धोनी महज 7 रन बनाकर आउट हो गए, लेकिन एक विकेटकीपर के तौर पर उन्होंने टीम इंडिया की जीत में अहम योगदान दिया। धोनी ने दूसरे वनडे में दो कैच और एक स्टंप किया। धोनी ने धनुष्का गुनातिलका और थिसारा परेरा का कैच लपका तो वहीं असेला गुणारत्ने को उन्होंने युजवेंद्र चहल की गेंद पर स्टंप आउट किया। साफ है एम एस धोनी एक बड़े खिलाड़ी हैं जो किसी ना किसी तरह से टीम की जीत में योगदान देते हैं।

 

मोहाली वनडे में टीम इंडिया ने श्रीलंका को 141 रनों से रौंदा, सीरीज 1-1 से बराबर
मोहाली वनडे में टीम इंडिया ने श्रीलंका को 141 रनों से रौंदा, सीरीज 1-1 से बराबर

मोहाली वनडे में भारत की जीत
भारतीय टीम ने 3 मैचों की वनडे सीरीज के दूसरे मुकाबले में श्रीलंका को मात दी। टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 4 विकेट पर 392 रन बनाए, जिसे श्रीलंकाई टीम हासिल नहीं कर सकी। टीम इंडिया की इस जीत के साथ ही सीरीज 1-1 से बराबर हो गई है और अब सीरीज के विजेता का फैसला विशाखापट्टनम में 17 दिसंबर को होगा।टीम इंडिया की जीत की स्क्रिप्ट लिखी कप्तान रोहित शर्मा ने, जिन्होंने मोहाली के मैदान पर रिकॉर्ड तोड़ दोहरा शतक जड़ा। रोहित शर्मा ने वनडे करियर का तीसरा दोहरा शतक जमाते हुए सिर्फ 153 गेंदों में 208 रनों की पारी खेली। अपनी इस पारी में रोहित शर्मा ने 12 छक्के और 13 चौके लगाए।