© Getty Images
© Getty Images

नागपुर टेस्ट के तीसरे दिन टीम इंडिया ने श्रीलंका के पहली पारी में 205 के जवाब में अपनी पहली पारी 610-6 के स्कोर के साथ घोषित कर दी। पहली पारी में 405 रनों की लीड लेने वाली टीम इंडिया की ओर से 4 बल्लेबाजों ने शतक लगाए। ये चार बल्लेबाज मुरली विजय (128), चेतेश्वर पुजारा (143), विराट कोहली (213) और रोहित शर्मा (102*) रहे। एक साल के बाद टेस्ट क्रिकेट में वापसी करते ही रोहित ने शतक जमा दिया। यही कारण था कि वह खासे खुश नजर आए।

उन्होंने दिन खेल खत्म होने के बाद कहा, “हम 400/3 के स्कोर के साथ अच्छी स्थिति में थे, लेकिन हम जानते थे कि हमें एक बार ही बल्लेबाजी करनी है और ऐसे में जितना संभव हो सके ज्यादा से ज्यादा रन बनाने हैं। 400 एक कठिन लक्ष्य है क्योंकि विकेट टूटना शुरू हो गया है और उसमें थोड़ी टर्न नजर आ रही है। कल सुबह बल्लेबाजों को खासी मशक्कत करनी पड़ेगी।”

रोहित जो अक्सर लंबे-लंबे स्ट्रोक लगाने के लिए जाने जाते हैं। वह नागपुर टेस्ट में अपने स्वभाव से उलट खेलते नजर आए। उन्होंने अपनी पारी में सिर्फ 8 चौके और 1 छक्का ही लगाया। इसपर उन्होंने कहा, “हमारा आइडिया था कि हम साझेदारी करें और मैंने काफी देर तक बैटिंग करते हुए ये देखने की कोशिश कि पिच पर क्या हो रहा है। गेंद गिरने के बाद नीची रह रही थी ऐसे में बड़े स्ट्रोक खेलना ठीक नहीं था और इसीलिए मैंने आराम से बल्लेबाजी की। मैं ये नहीं कहूंगा कि मैं दबाव में था, लेकिन मैं थोड़ा परेशान था। करीब 500 दिनों के बाद मैं टेस्ट खेल रहा हूं। मैं सिर्फ स्ट्राइक रोटेट करना चाहता था। पिछले सीजन में जब मैं चोट के कारण नहीं खेल पाया था तो वह खासा निराशाजनक था। इंडिया को फिर शायद ही 13 होम टेस्ट वाला सीजन मिले। उस टीम का हिस्सा न रहना निराशाजनक था। जो भी मुझे मिलता है उसे ले लेता हूं और उसी से खुश हूं। मैं अपने आपमें बहुत दबाव नहीं डालना चाहता। अगले कुछ महीने चुनौतीपूर्ण होने वाले हैं और मैं खुश हूं कि मैं कुछ रन बनाने में कामयाब रहा।”

रोहित शर्मा ने खत्म किया 4 सालों का इंतजार, जड़ दिया शतक
रोहित शर्मा ने खत्म किया 4 सालों का इंतजार, जड़ दिया शतक

साल 2010 में चोटिल होने के चलते वह अपना डेब्यू नहीं कर पाए थे जिसके कारण उन्हें तीन साल का इंतजार करना पड़ा और आखिरकार साल 2013 में टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया। रोहित ने कहा, “मैं उस डेब्यू वाली बात को याद नहीं करना चाहता। यह मेरी जिदंगी की सबसे बड़ी निराशा है क्योंकि उस वजह से मुझे डेब्यू करने के लिए 3 सालों का इंतजार करना पड़ा।”