IPL 2018: I still have love and care for Chennai Super Kings, says Ravindra Jadeja after shoe-hurling incident
रवींद्र जड़ेजा © IANS

कोलकाता नाइट राइडर्स  और चेन्‍नई सुपर किंग्‍स के खिलाफ 10 अप्रैल को खेला गया मैच बेहद रोमांचक रहा। आध्रे रसल की धमाकेदार 88 रनों की पारी के कारण केकेआर ने सीएसके को जीत के लिए 203 रनों का लक्ष्‍य दिया। पहाड़ जैसे इस लक्ष्‍य को बनाने में आधी राह सलामी बल्‍लेबाज शेन वाट्सन और अंबाती रायडू ने पहले छह ओवरों में 75 रन की पार्टनरशिप बनाने के साथ ही आसान कर दी थी। रही कही कसर सैम बिलिंग्‍स के तूफानी अर्धशतक ने पूरी कर दी। केकेआर ये मैच पांच विकेट से हार गया। ये मैच जितना ऑन फील्‍ड रोमांच के लिए जाना जाएगा, उतना ही इसे ऑफ फील्‍ड मचे घमासान के लिए भी क्रिकेट फैन्‍स याद रखेंगे।

कवेरी नदी के पानी बंटवाने को लेकर तमिलनाडु और कर्नाटक में मचे घमासान के कारण प्रदर्शनकारियों ने मैच के दौरान चेपॉक स्‍टेडियम का घेराव कर दिया। मैच देखने आए क्रिकेट फैन्‍स के साथ भी मारपीट की गई। एहतियातन चेन्‍नई पुलिस ने मैच देखने के लिए आने वाले फैन्‍स पर साथ सामान लाने के लिए काफी पाबंदियां लगाई थी, लेकिन इसके बावजूद भी कुछ तमिल समर्थक मैदान पर बाउंड्री लाइन पर खड़े प्‍लेयर्स पर जूता फेंकने में सफल रहे।


बाउंड्री पर खड़े रवींद्र जड़ेजा भी इस जूता कांड का शिकार हुए। हालांकि गनीमत ये रही की जूता उन्‍हें नहीं लगा। जड़ेजा लंबे समय से सीएसके के साथ खेलते रहे हैं। सीएसके पर बैन लगने के बाद उन्‍हें अन्‍य फ्रेंचाइजी के साथ खेलना पड़ा। इस सीजन में चेन्‍नई की टीम की एक बार फिर आईपीएल में वापसी होने के साथ ही सीएसके ने उन्‍हें रिटेन कर लिया। जड़ेजा का सीएसके के साथ गहरा जुड़ाव रहा है। इस कांड के बाद जड़ेजा ने ट्विटर पर लिखा, ” हमारे दिल में अब भी सीएसके के फैन्‍स के लिए काफी प्‍यार और लगाव है।”