IPL 2018: Madras High Court asks Centre, BCCI to respond to PIL seeking stay on IPL
आईपीएल-2018

चेन्नई: आईपीएल-11 को रुकवाने के लिए मद्रास हाई कोर्ट में एक पीआईएल लगाई गई है। आईपीएस अधिकारी जी. सम्पतकुमार ने इस याचिका को लगाते हुए कहा है कि आईपीएल में मैच फिक्सिंग और सट्टेबाजी को रोकने के लिये पर्याप्त कदम नहीं उठाए गए हैं। ऐसे में आईपीएल का आयोजन नहीं किया जाना चाहिए। सात अप्रैल को मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच मुंबई में पहले मुकाबले के साथ आईपीएल-11 की शुरुआत होगी।

भारतीय तिरंगे के साथ तस्वीर पोस्ट कर शाहिद आफरीदी ने कहा, 'हम सभी का सम्मान करते हैं'
भारतीय तिरंगे के साथ तस्वीर पोस्ट कर शाहिद आफरीदी ने कहा, 'हम सभी का सम्मान करते हैं'

मुख्य न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी और न्यायाधीश ए सेलवम की बैंच ने गृह मंत्रालय और बीसीसीआई को इस याचिका पर नोटिस भेजकर इसपर जवाब मांगा है। अब 13 अप्रैल को इसपर अगली सुनवाई होगी। पीठ ने हालांकि कहा कि मैच फिक्सिंग की संभावना और अन्य उल्लघंनों के चलते टूर्नामेंट को कैसे रोका जा सकता है। इस पर याचिकाकर्ता ने कहा कि उनका इरादा मैच को रूकवाने का नहीं है। वह याचिका में बदलाव करने को सहमत हो गए।

पीठ ने कहा कि वह इस बात से इंकार नहीं कर सकते कि इस तरह के अपराध होते रहे हैं। उन्होंने साथ ही कहा कि ऐसा निश्चित नहीं हो सकता है कि इस तरह के अपराध रोकने वाले कदमों से इन पर लगाम कसी जा सकती है। साल 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने एक पैनल नियुक्‍त किया था, जिसने चेन्नई सुपर किंग्सऔर राजस्थान रायल्स को अवैध तरीके से सट्टेबाजी करने का दोषी पाया था। जिसके बाद दोनों टीमों को दो साल के लिए बैन कर दिया गया था।