Jacques Kallis: South African batsmen will learn to play wrist spinners with experience
जैक कालिस © Getty Images

दक्षिण अफ्रीका के महान ऑलराउंडर खिलाड़ी जैक कालिस ने बताया है कि उनके देश के बल्लेबाज भारत के रिस्ट स्पिनरों युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव का सामना नहीं कर पा रहे क्योंकि उन्होंने घरेलू मैदान पर इस तरह के गेंदबाजों का सामना नहीं किया है। भारत ने छह मैचों की वनडे सीरीज में 4-1 की अजेय बढ़त बना ली है। चहल ने 14 और यादव ने 16 विकेट ले लिए हैं।

बल्लेबाजी क्रम में ऊपर आने पर और भी बेहतर प्रदर्शन करेंगे महेंद्र सिंह धोनी: सुरेश रैना
बल्लेबाजी क्रम में ऊपर आने पर और भी बेहतर प्रदर्शन करेंगे महेंद्र सिंह धोनी: सुरेश रैना

कैलिस ने पीटीआई से बातचीत में कहा, ‘‘अच्छे लेग ब्रेक गेंदबाजों को समझने में समय लगता है। हमें स्वीकार करना होगा कि हमारे पास विश्व स्तरीय लेग स्पिनर नहीं है। ये हमारे युवाओं के लिए सबक की तरह रहा है। हम भी इस दौर से गुजरे हैं और समय के साथ सीखे हैं।’’ शेन वार्न और अनिल कुंबले जैसे गेंदबाजों को उनके चरम दौर में खेलने वाले कालिस ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 25,000 से ज्यादा रन बनाए हैं। उनका मानना है कि लेग स्पिनरों का सामना करने के लिए कोई परफेक्ट तकनीक नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘अनुभव ही कुंजी है। लेग ब्रेक गेंदबाजी को समझने के दो तरीके हैं या कलाई से ही गेंद को भांप लें या गेंद के आने का इंतजार करें। जितना ज्यादा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलेंगे, उतना ही समझ जायेंगे। हर कोई संकट से निकलने का अपना तरीका ढूंढ लेता है। दक्षिण अफ्रीका को अब पता चल गया होगा कि एबी डिविलियर्स और फाफ डु प्लेसिस जैसे बल्लेबाजों के चोटिल होने के बाद उनकी बल्लेबाजी में गहराई नहीं है। क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका को इस पर गंभीरता से विचार करना होगा।’’