Javed Miandad: There is no harm in playing Test matches without Toss
Javed Miandad © Getty Images

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने टेस्ट क्रिकेट से टॉस की परंपरा खत्म करने के प्रस्ताव का समर्थन किया है।मियांदाद ने कहा कि इससे मेजबान टीमें अपने फायदे वाली पिचों की बजाय बेहतर पिचें बनाने पर जोर देंगी। हालांकि मियांदाद से पहले एक अन्य पूर्व कप्तान सलीम मलिक ने कहा था कि आईसीसी को खेल की परंपरा से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए।

आधे टूर्नामेंट में किंग्स इलेवन पंजाब रही शेर, बाकी मैचों में हुई ढेर
आधे टूर्नामेंट में किंग्स इलेवन पंजाब रही शेर, बाकी मैचों में हुई ढेर

मियांदाद ने कहा, ‘‘मुझे टॉस की परंपरा खत्म करने के प्रयोग में कोई खामी नजर नहीं आती। इससे मैच खासकर टेस्ट क्रिकेट अच्छी पिचों पर खेला जाएगा।’’ इस महीने मुंबई में आईसीसी की क्रिकेट समिति की बैठक में इस पर बात की जाएगी कि खेल से टॉस खत्म कर देना चाहिए या नहीं।

मियांदाद ने कहा, ‘‘हमने हाल ही में देखा है कि पाकिस्तान ने यूएई में मैच जीते हैं जहां पिचें धीमी और कम उछाल वाली होती है लेकिन ऑस्ट्रेलिया या न्यूजीलैंड में वो जूझती नजर आई है। इसके लिए जरूरी है कि अच्छी पिचों पर क्रिकेट खेला जाए।’’ वहीं मलिक ने कहा कि टास से खेल और रोचक हो जाता है।

उन्होंने कहा, ‘‘इससे कप्तान की चतुराई और उपयोगिता की परख हो जाती है। कई बार टॉस के समय लिए गए फैसलों से मैच के नतीजे पर असर पड़ता है। टॉस खत्म करने की बजाय मैच रैफरियों और अंपायरों की तरह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्यूरेटर भी होने चाहिए।’’