Kevin pietersen Picked for Pataudi lecture, BCCI acting secretary not happy
Kevin Pietersen © Getty Images

बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने 12 जून को पुरस्कार समारोह के दौरान वार्षिक एमएके पटौदी मेमोरियल लेक्‍चर देने के लिए इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन को चुने जाने पर अपनी नाराजगी व्यक्त की है। चौधरी ने इससे पहले इस लेक्‍चर के लिए चुने गए कुमार संगकारा, नासिर हुसैन, सौरव गांगुली और केविन पीटरसन के नामों पर भी कड़ी आपत्ति व्यक्त की थी। वह पुराने जमाने के भारतीय दिग्गजों को नजरअंदाज करने के लिए बीसीसीआई महाप्रबंधक ( क्रिकेट संचालन ) सबा करीम से नाराज थे।

ऑस्ट्रेलियाई टीम पर भड़के वार्न, लगाया ‘मीन-मेख’ का लगाया आरोप
ऑस्ट्रेलियाई टीम पर भड़के वार्न, लगाया ‘मीन-मेख’ का लगाया आरोप

चौधरी ने ईरापल्ली प्रसन्ना, अब्बास अली बेग, नारी कांट्रैक्टर के नाम सुझाए थे जो पटौदी के साथ खेले थे। कार्यवाहक सचिव ने एक ईमेल में पूर्व भारतीय विकेटकीपर सबा करीम पर ताना कसा है। इससे पहले सबा करीम ने घोषणा की थी कि उन्हें‘यह घोषणा करते हुए खुशी है कि केविन पीटरसन एमएके पटौदी मेमोरियल लेक्‍चर देने पर सहमत हो गए हैं।’

चौधरी ने पीटरसन के संदर्भ में लिखा है, ‘महाप्रबंधक ( क्रिकेट संचालन ) की खुशी को देखकर मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया कि यह एमएके पटौदी ममोरियल लेक्‍चर है या सर लेन हटन लेक्‍चर या इस संदर्भ में सर फ्रैंक वूली मेमोरियल लेक्‍चर है।’झारखंड के इस पूर्व पुलिस अधिकारी ने नाराजगी जताई है कि सबा करीम ने उनके सुझावों पर गौर नहीं किया और इस पर उनसे संपर्क भी नहीं किया।

उन्होंने सबा करीम से पांच सवाल पूछे हैं, 1- बैंगलोर में आठ मई को इस विषय पर बिना किसी चर्चा के चार नामों की सूची कैसे सामने आ गई? 2- सूची में 75 प्रतिशत नाम विदेशी खिलाड़ियों के क्यों हैं ? 3- लेक्‍चर देने के लिए ( पीटरसन के चयन की ) प्रांसगिकता के बारे में विस्तार से नहीं बताया गया ? 4- जब सीओए विनोद राय ने कहा था कि वह अन्य नामों पर विचार करने के लिए तैयार हैं तब संगकारा की अनुपलब्धता के बारे में क्यों नहीं बताया गया ? 5- किस अधिकार के आधार पर पीटरसन का नाम तय किया गया जबकि ऐसा करने के लिये अनुमति नहीं ली गई?

कार्यवाहक सचिव ने सबा करीम पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने सीओए को उनके सुझाव नहीं बताए और वह एकतरफा फैसले कर रहे हैं।