© Getty Images
© Getty Images

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ऑलराउंडर लांस क्लूज़नर ने कहा कि हार्दिक पांड्या भारत के लिये बेहतरीन ऑलराउंडर साबित हो सकते हैं । पांड्या ने पहले टेस्ट में 95 गेंद में 93 रन बनाये और दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी में 27 रन देकर दो विकेट लिये थे। क्लूज़नर ने प्रेस ट्रस्ट से कहा ,‘‘ भारत की पहली पारी में उसकी बल्लेबाजी बेहतरीन थी । उन्होंने टीम को दबाव से निकालकर दक्षिण अफ्रीका पर दबाव बनाया । वो भारत के लिये धरोहर साबित होगा । अभी पांड्या सीख रहे हैं और अगर अपनी गेंदबाजी में रफ्तार शामिल कर लें तो वो उम्दा ऑलराउंडर बन सकते हैं ।’’ पांड्या अपने छोटे से करियर में ही टीम का अहम हिस्सा बन गए हैं । लिमिटेड ओवरों के क्रिकेट में उनका रिकॉर्ड बल्ले और गेंद दोनों से शानदार है ।

क्लूज़नर ने कहा ,‘‘ हार्दिक भविष्य में शानदार हरफनमौला साबित होगा । कई मौकों पर नाकामी भी मिलेगी लेकिन हार्दिक को सकारात्मक सोच के साथ हौसलाअफजाई की जरूरत है ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ वो आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिये खेलें या भारतीय टीम के लिये, उसके आस- पास अच्छे लोग हैं और ये उनकी जिम्मेदारी है कि हार्दिक की प्रतिभा को तराशें ।’’

अभ्यास मैच नहीं खेल भारत ने की गलती

भारत ने टेस्ट सीरीज़ से पहले एकलौता अभ्यास मैच नहीं खेला और क्लूज़नर इसके हिमायती नहीं हैं । उन्होंने कहा ,‘‘अभ्यास मैच खेलना हमेशा अच्छा होता है । अगर भारतीय टीम उपमहाद्वीप के दौरे पर होती तो अभ्यास मैच नहीं खेलने से कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन दक्षिण अफ्रीका में खेलने से पहले अभ्यास मैच से मदद मिलती ।’ क्लूज़नर ने कहा ,‘‘अगर दक्षिण अफ्रीकी टीम भारत दौरे पर होती तो उपमहाद्वीप के हालात में ढलने के लिये कम से कम एक अभ्यास मैच जरूर खेलती ।’’

दूसरे टेस्ट में खेल सकते हैं अजिंक्य रहाणे, अश्विन हो सकते हैं बाहर!
दूसरे टेस्ट में खेल सकते हैं अजिंक्य रहाणे, अश्विन हो सकते हैं बाहर!

हार से सबक ज़रूरी

क्लूज़नर ने कहा कि पहले मैच में मिली हार से भारत को कई सबक सीखने हैं । उन्होंने कहा ,‘‘भारत पहले मैच की हार से काफी कुछ सीख सकता है । पांड्या अगर वो पारी नहीं खेलता तो परिणाम और बदतर होता । भारत के लिये ये सबक है और अब उसे अधिक मजबूती से तेज गेंदबाजों की चुनौती का सामना करना होगा ।’’ क्लूज़नर ने कहा ,‘‘ दक्षिण अफ्रीका में हमेशा आपको तेज आक्रमण का सामना करने के लिये तैयार रहना होगा । उन्होंने चार तेज गेंदबाजों को उतारा । भारत के लिये ये चुनौतीपूर्ण था खासकर तब जबकि वे अभी श्रीलंका से खेलकर आये हैं ।’’