LGBT awareness campaign ‘Rainbow Laces’ returns to English cricket
© Getty Images (representational photo)

इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड  ने एलजीबीटी (लेस्बियन, गे, बाईसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर) जागरुकता चैरिटी स्टोनवेल के साथ मिलकर ‘रेनबो लेसेस’ मुहिम को एक बार फिर क्रिकेट में जगह देने का फैसला किया है।

टेस्ट सीरीज में वनडे की शानदार फॉर्म बरकरार रखना चाहते हैं बेयरस्टो
टेस्ट सीरीज में वनडे की शानदार फॉर्म बरकरार रखना चाहते हैं बेयरस्टो

इंग्लिश क्रिकेट के एलजीबीटी खिलाड़ियों और फैंस का जश्न मनाने के लिए इस हफ्ते के आखिर में क्रिकेट के हर स्तर पर इस कैंपेन की शुरुआत की जाएगी। ईसीबी से जुड़े सभी पेशेवर और शौकिया क्लब के खिलाड़ी ये दिखाने के लिए कि क्रिकेट का खेल हर किसी के लिए हैं, जूतो में रेनबो लेस पहनकर मैदान पर उतरेंगे।

एलजीबीटी के समर्थन की ये मुहिम टी20 ब्लास्ट और महिला क्रिकेट सुपर लीग के दौरान अपनी मौजूदगी दर्ज कराएगी। ये कैंपेन 27 जुलाई से लेकर 29 जुलाई तक जारी रहेगा। ईसीबी ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी।

ECB LOGO

आईसीसी की वेबसाइट पर जारी बयान के मुताबिक, न सिर्फ लेसस बल्कि स्टैंप, झंडे और बड़ी स्क्रीनों पर रेनबो को दर्शाया जाएगा जो इस मुहिम के प्रति ईसीबी के समर्थन को जाहिर करेंगे।

ईसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टॉम हैरिसन ने एक बयान में कहा, “क्रिकेट हर किसी के लिए है। हम स्टोनवेल और रेनवो लेसेस का एक बार फिर समर्थन करने से खुश हैं। हर किसी को लगना चाहिए कि उनका इस खेल में स्वागत है। हम इस भावना हो आगे बढ़ाने में अपना योगदान देना चाहते हैं।”