Mayank Markande wants to play for Punjab Ranji Trophy team

इंडियन प्रीमियर लीग के अपने पहले ही मैच में चेन्नई सुपरकिंग्स जैसी टीम के खिलाफ 3 बड़े विकेट लेकर धमाल मचाने वाले मुंबई इंडियंस के मयंक मारकंडे रणजी क्रिकेट खेलना चाहते हैं। आईएएनएस को दिए कहा, “मैं वही करूंगा जो मेरे हाथ में है। मैं अपनी गेंदबाजी पर काम करूंगा। अब मेरी ख्वाहिश प्रथम श्रेणी क्रिकेट में कदम रखने की है और मैं अब अपने राज्य की पंजाब की रणजी टीम में जगह बनाना चाहता हूं। जाहिर है, दूसरे तमाम क्रिकेटरों की तरह मेरा सपना भी देश के लिए खेलना है लेकिन पहले मैं रणजी की बाधा पार करना चाहूंगा क्योंकि मेरे लिए सीखने का ये शानदार मौका होगा।”

चोटिल हैं विराट कोहली, नहीं खेलेंगे इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट
चोटिल हैं विराट कोहली, नहीं खेलेंगे इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट

डेब्यू मैच में पहले मैच में सीएसके के कप्तान धोनी का विकेट लेने पर मयंक ने कहा, “माही भाई का विकेट लेना जाहिर है मेरे लिए बड़ी बात थी। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं आईपीएल में मुंबई इंडियंस के पहले मैच में डेब्यू करूंगा। मेरे जैसे युवा खिलाड़ी के लिए मुंबई सपनों की टीम रही है। सीजन के पहले मैच वो भी चेन्नई के खिलाफ मुंबई के लिए खेलना मेरे लिए बड़ी बात थी। एक दिन पहले मुझे इस बारे में बताया गया था। मैं काफी उत्साहित था लेकिन घबराया हुआ भी था। टीम के सहयोगी स्टाफ ने मेरी मदद की।”

तेज गेंदबाजी से करियर की शुरुआत करने वाले मयंक ने अपनी गुगली को लेकर कहा, “ये मेरी गेंदबाजी में स्वाभाविक  है। आठ साल ही उम्र में मैं तेज गेंदबाज बनना चाहता था। मेरी अकादमी में मेरे कोच ने मुझसे कहा कि मैं धीमी गेंद के लिए अपनी कलाई का इस्तेमाल कर सकता हूं। उन्होंने मेरी मदद की। मैं इसका ज्यादा अभ्यास किया और फिर लेग स्पिनर बन गया।”

मयंक आईपीएल 11 के टॉप गेंदबाजों की सूची में नंबर दस पर हैं और मुंबई इंडियंस के टूर्नामेंट से बाहर होते ही वो पर्पल कैप की रेस से भी बाहर हो चुके हैं। हालांकि मयंक को इससे फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने कहा, “मैंने जब से डेब्यू किया है पर्पल कैप मेरे दिमाग में कभी नहीं थी। मेरे दिमाग में सिर्फ मुंबई की कैप थी, सीजन की शुरुआत से आखिर तक। पर्पल कैप आती-जाती रहती हैं लेकिन मैं मुंबई की कैप को अपने पास रखना चाहता था। मेरे लिए वो गर्व की बात थी।”