Michael Atherton: IPL has destroyed test cricket
MS Dhoni (File Photo) © IANS

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल आथर्टन का माना है कि इंडियन प्रीमियर लीग ने युवा खिलाड़ियों को अधिक विकल्प और मौके मुहैया कराए हैं लेकिन साथ ही क्रिकेट के खेल में बाधा भी उत्पन्न की। लॉर्ड्स में पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली की किताब ‘ ए सेंचुरी इज नाट इनफ ’ के ब्रिटेन में हुए विमोचन के मौके पर आथर्टन ने यह बात कही। क्रिकेट पर चर्चा के लिए आथर्टन के साथ उनके इंग्लैंड के साथी खिलाड़ी माइक गैटिंग और श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा भी मौजूद थे।

केकेआर ने खेला दांव, आईपीएल 2019 में जीत पक्‍की करने के लिए शुरू किया ये काम
केकेआर ने खेला दांव, आईपीएल 2019 में जीत पक्‍की करने के लिए शुरू किया ये काम

भारत में टेस्‍ट मैच के दौरान खाली रहते हैं स्‍टेडियम

टी 20 लीग की बढ़ती लोकप्रियता के बीच टेस्ट क्रिकेट के भविष्य पर आथर्टन ने कहा , ‘‘ किसी भी अन्य उद्योग की तरह क्रिकेट में भी बाधा पहुंची है। आईपीएल बाधा पहुंचाने वाली प्रतियोगिता है जो खिलाड़ियों को विकल्प और मौके देता है।’’ उन्होंने कहा , ‘‘हम अब भी यहां इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट को अच्छी तरह बेचते हैं। भारत में मैदान भले ही खाली दिखें (टेस्ट मैचों के दौरान) लेकिन हमें यह ध्यान रखना होगा कि वे कहीं बड़े मैदान हैं। मैं भविष्य को लेकर आशावान हूं। ’’
गांगुली ने सुझाव दिया कि अधिक दिन – रात्रि टेस्ट आगे बढ़ने का तरीका है। उन्होंने कहा , ‘‘नौकरी करने वाले लोगों के लिए यह मुश्किल है कि वे पूरी दिन काम से दूर क्रिकेट के मैदान पर बिताएं।’’

हमें बदलनी होगी मानसिकता

संगकारा ने जोर देकर कहा कि भविष्य में बचे रहने के लिए टेस्ट क्रिकेट को वित्तीय रूप से व्यावहारिक होना होगा। उन्होंने कहा , ‘‘टेस्ट क्रिकेट के लिए अब भी बहुत प्यार है, लेकिन सभी चीजों में विकास होता है। हमें सिर्फ अपनी मानसिकता बदलनी होगी।’’  गैटिंग ने कहा , ‘‘यह दुखद है कि भारत में प्रशंसक टेस्ट मैच देखने उतनी संख्या में नहीं आते, लेकिन मेरा अब भी मानना है कि टेस्ट क्रिकेट के लिए जगह है।’’

आथर्टन की अगुआई वाली इंग्लैंड के खिलाफ गांगुली ने किया था डेब्‍यू

गांगुली ने इस दौरान 1996 में लॉर्ड्स पर आथर्टन की अगुआई वाली इंग्लैंड की टीम के खिलाफ अपने टेस्ट पदार्पण को भी याद किया। आथर्टन ने कहा , ‘‘हम देख सकते थे कि यह भारतीय खिलाड़ियों की नयी पीढ़ी की शुरुआत है , महान मध्यक्रम की शुरुआत। ’’ लार्ड्स में 2002 में नेटवेस्ट ट्राफी जीतने के बाद शर्ट उतारकर लहराने की गांगुली की छवि अब भी प्रशंसकों के जेहन में ताजा है लेकिन जब इस लम्हें को याद करने के बारे में कहा गया तो पूर्व भारतीय कप्तान ने इसे खारिज करते हुए कहा कि वह जुलाई का काफी गर्म दिन था।