Mohammad Kaif says NatWest Series final changed my life
Mohammad Kaif Photo Courtesy: Yogen Shah

हाल में क्रिकेट से संन्यास लेने वाले भारत के पूर्व बल्लेबाज मोहम्मद कैफ ने कहा है कि 2002 में नेटवेस्ट ट्रॉफी का फाइनल उनके जीवन को बदलने वाला पल साबित हुआ। कैफ ने उस नेटवेस्ट ट्रॉफी के फाइनल मैच की 16वीं वर्षगांठ (13 जुलाई) को ही क्रिकेट के सभी प्रारूप से संन्यास की घोषणा की।

निर्णायक वनडे के लिए इंग्‍लैंड ने इस खिलाड़ी को टीम में किया शामिल
निर्णायक वनडे के लिए इंग्‍लैंड ने इस खिलाड़ी को टीम में किया शामिल

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो को दिए इंटरव्यू में कैफ ने कहा, ’13 जुलाई मेरे जीवन को बदलने वाला पल था। वो मैच हम तब जीते थे जब किसी ने उम्मीद नहीं की थी। मेरे माता-पिता भी मैच छोड़कर फिल्म देखने चले गए थे। मैदान में मौजूद दर्शक भी धीरे-धीरे बाहर जाने लगे थे।’

कैफ ने नेटवेस्ट ट्रॉफी के फाइनल मैच में 325 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए लड़खड़ाई भारतीय पारी को युवराज सिंह के साथ संभाला था और छठे विकेट के लिए 121 रनों की साझेदारी कर भारत को जीत दिलाई थी।

कैफ ने लॉडर्स के मैदान पर खेले गए इस मैच में नाबाद 87 रनों की पारी खेलकर भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी।

घरेलू क्रिकेट में कैफ ने उत्तर प्रदेश की तरफ से खेलते हुए उसे पहला रणजी ट्रॉफी खिताब दिलाया था। कैफ ने कहा कि टीम के साथ वो फाइनल जीतना भी उनके लिए बड़ा पल था।

कैफ ने भारत के लिए 125 वनडे मैच खेले जिनमें 32.01 की औसत से 2, 753 रन बनाए। उनका सर्वोच्च स्कोर 111 रहा। उन्होंने अपने वनडे करियर में दो शतक और 17 अर्धशतक लगाए। उन्‍होंने 13 टेस्ट मैच भी खेले। खेल के लंबे प्रारूप में कैफ का औसत 32.84 का रहा जिसकी मदद से उन्होंने 22 पारियों में 624 रन बनाए हैं। टेस्ट में कैफ के नाम एक शतक और तीन अर्धशतक हैं। उनका सर्वोच्च स्कोर 148 है।