Mohammed Shami will get BCCI central contract if proven innocent in ACU report
मोहम्मद शमी © Getty Images

बीसीसीआई की भ्रष्टाचार निरोधक ईकाई के प्रमुख नीरज कुमार अगर तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को बोर्ड की आचार संहिता के तहत किसी अपराध से क्लीन चिट देते हैं तो केंद्रीय करार में उसकी वापसी हो सकती है। ऐसा समझा जाता है कि शमी की पत्नी हसीन जहां के लगाए गए घरेलू हिंसा के आरोपों की जांच पुलिस कर रही है और बीसीसीआई का इससे कोई लेना देना नहीं है।

निदास ट्रॉफी 2018, छठां टी20: बांग्लादेश ने टॉस जीता, पहले गेंदबाजी करने का फैसला
निदास ट्रॉफी 2018, छठां टी20: बांग्लादेश ने टॉस जीता, पहले गेंदबाजी करने का फैसला

बीसीसीआई अधिकारी ने प्रेस ट्रस्ट ने कहा, ‘‘बीसीसीआई की हैंडबुक में क्रिकेटरों के लिये आचार संहिता है जो वित्तीय लेनदेन से संबंधित है। एसीयू सिर्फ मोहम्मद भाई और अलिश्बा से शमी के कथित लेनदेन की जांच कर रहा है। यदि उन्हें इन आरोपों से क्लीन चिट मिल जाती है तो तुरंत केंद्रीय करार में उनकी वापसी होगी।’’ उन्होंने साफ तौर पर संकेत दिये कि बीसीसीआई का शमी की निजी जिंदगी से कोई सरोकार नहीं है।

यह पूछने पर कि कोलकाता पुलिस अगर शमी को गिरफ्तार करती है तो उन्होंने जवाब दिया, ‘‘यह काल्पनिक स्थिति है। हम यहां बैठकर कयास नहीं लगा सकते। ये हमारा काम नहीं है। पता नहीं जांच में कितना समय लगेगा । समय आने पर देखा जायेगा।”