Muttiah Muralitharan: It is a cunning move to use reputed cricketers when cricket administration is in such a deplorable state
Muttiah Muralitharan © Getty Images

खराब दौर से गुजर रही श्रीलंका क्रिकेट टीम को एक और बड़ा झटका लगा जब मुथैया मुरलीधरन और महेला जयवर्धने जैसे सीनियर खिलाड़ियों ने बतौर सलाहकार टीम से जुड़ने से इंकार कर दिया। दरअसल श्रीलंकाई खेल मंत्री फेजर मुस्तफा ने पूर्व कप्तानों अरविंदा डी सिल्वा, रोशन महानामा, महेला जयवर्धन, कुमार संगाकारा और मुरलीधरन से बोर्ड का सलाहकार बनने की अपील की थी। मुरलीधरन ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया है, उनका कहना है कि खेल को सुधारने की नीयत के बिना प्रतिष्ठित क्रिकेटरों के अच्छे नाम का इस्तेमाल करना घटिया कदम है।

विराट कोहली ने दिया यो-यो टेस्ट, चोट को लेकर कोई खबर नहीं
विराट कोहली ने दिया यो-यो टेस्ट, चोट को लेकर कोई खबर नहीं

क्रिकबज को दिए बयान में दिग्गज स्पिनर ने कहा, “मेरी नजर में ये एक चालाक और बेहद निष्ठाहीन कदम है, हमारा इस्तेमाल करना जबकि क्रिकेट एडमिनिसट्रेशन इतनी खराब हालत में है। टीम से जुड़े मुद्दों को हल करने की कोशिश के बाद भी कोई सुधार लागू नहीं होने के अपने अनुभव के बाद सिस्टम पर भरोसा ना कर पाने के महेला के भावुक बयान का मैं समर्थन करता हूं।” बता दें कि 31 मई को होने वाले श्रीलंकाई बोर्ड के चुनाव फिलहाल टल गए हैं और देश का क्रिकेट बोर्ड मंत्रालय के अंतर्गत काम कर रहा है।

मुरलीधरन ने आगे कहा, “ये दुख की बात है कि राष्ट्रीय खिलाड़ियों के बारे में तब तक नहीं सोचा गया, जब तक खेल एकदम निचले स्तर पर पहुंच गया। मैं अपने दुनिया भर के अपनी पेशेवर कोचिंग के बावजूद अपना समय टीम के लिए देने को तैयार हूं अगर मुझे प्रशासन की वास्तविकता और विश्वसनीयता का एहसास हो।”