Muttiah Muralitharan: It was easier to bowl during our times
मुथैया मुरलीधरन © Getty Images

अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर के दौरान बड़े बड़े बल्लेबाजों को फिरकी पर नचाने वाले मुथैया मुरलीधरन का मानना है कि उनके समय में गेंदबाजी करना आसान था जब टी 20 क्रिकेट का अधिक चलन नहीं था। मुरलीधरन ने एक प्रचार कार्यक्रम के दौरान कहा, ‘‘हमारे समय में गेंदबाजी करना आसान था। अब खेल विकसित हो गया है और गेंदबाजी करना आसान नहीं है। हमने काफी टी 20 मैच नहीं खेले और टेस्ट मैचों में वे इतने छक्के नहीं मारते थे जितने आज के समय में मारते हैं।’’

वीडियो: मैच के दौरान पापा को गले लगाना चाहती थी जीवा
वीडियो: मैच के दौरान पापा को गले लगाना चाहती थी जीवा

टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट हासिल करने वाले मुरलीधरन ने कहा कि 1996 में विश्व कप जीतना उसके करियर का सर्वश्रेष्ठ पल था। आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद के गेंदबाजी कोच ने कहा, ‘‘मैं 1996 विश्व कप जीत को हमेशा सहेजकर रखूंगा क्योंकि ये श्रीलंका क्रिकेट के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज थी। सनराइजर्स के लिए ये लम्हा 2016 में आया था जब उन्होंने आईपीएल ट्रॉफी जीती।’’

इस प्रचार कार्यक्रम के सनराइजर्स के नए कप्तान केन विलियमसन ने अपने करियर के शुरुआती दिनों को याद किया जब वो सचिन तेंदुलकर को आदर्श मानते थे जबकि सीनियर सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास के बाद अपने पारिवारिक व्यवसाय से जुड़ने की संभावना पर बात की।