Nidahas Trophy 2018: Seniors supported me despite flop show in the final, says Vijay Shankar
Vijay Shankar © AFP

निदहास ट्रॉफी 2018 के फाइनल में भारत ने बांग्‍लादेश को हरा दिया। आखिरी गेंद पर छक्‍का लगाकर मैच के हीरो बने दिनेश कार्तिक के करियर की ये सबसे यादगार पारियों में से एक है। वहीं, एक शख्‍स ऐसा भी है जो इस मैच में विलेन बनकर सामने आया है। घरेलू क्रिकेट में अच्‍छे प्रदर्शन के बाद अंतरराष्‍ट्रीय मैच खेले रहेे विजय शंकर की पारी भी कोई इतनी आसानी से नहीं भूल सकता। मुस्ताफिजुर रहमान द्वारा डाले गए 18वें ओवर में लगातार चार डॉट बॉल खेलने और फिर पांचवी बॉल पर भी लेग बॉय का रन चुरा पाने के कारण क्रिकेट फैन्‍स विजय शंंकर की जमकर आलोचना कर रहे हैं। ट्विटर पर विजय शंकर को कोसने वालों की कमी नहीं है।

महेंद्र सिंह धोनी उस यूनिवर्सिटी के टॉपर है, जहां मैं अब भी पढ़ रहा हूं: दिनेश कार्तिक
महेंद्र सिंह धोनी उस यूनिवर्सिटी के टॉपर है, जहां मैं अब भी पढ़ रहा हूं: दिनेश कार्तिक

चारों तरफ से घिर चुके विजय शंकर को अपनी टीम के खिलाड़ियों का पूरा सहयोग मिल रहा है। टाइम्‍स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्‍यू में विजय शंकर ने कहा, ” टीम के खिलाड़ियों ने इस खराब पारी के बावजूद भी मेरा हौसला बढ़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। सभी सीनियर मेंरे पास आए, मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए उन्‍होंने कहा कि क्रिकेट में ऐसा होता है। तुम कोई पहले ऐसे खिलाड़ी नहीं हो जिसके साथ ऐसा हुआ है।”

शंकर ने कहा, “मैं अपने आप से काफी नाराज था, क्‍योंकि मैने ऐसी परिस्थितियों में खेलने के लिए पहले काफी तैयारियां की थी, जब डिलीवर करने का मौका आया तो मैं कुछ नहीं कर पाया।” शंकर ने फाइनल मैच में 19 गेंदों पर 17 रनों की पारी खेली। धीमी गति से रन बनाने के कारण एक समय में आसन लग रही जीत तक पहुंचना काफी मुश्किल हो गया। मैच की आखिरी गेंद पर जीत के लिए पांच रनों की दरकार थी। दिनेश कार्तिक ने छक्‍का लगाकर टीम को मैच जिताया।

विजय शंकर सनराइजर्स हैदराबाद की टीम में मुस्ताफिजुर रहमान के साथ खेलते हैं। शंकर ने कहा, ” मुस्ताफिजुर रहमान को नेट्स पर खेलना और मैच के दौरान खेलना काफी अलग अनुभव रहा। मुझे लगता है कि शायद वो मेरा दिन नहीं था। ऐसी ही परिस्थितियों में किसी और दिन अगर मैं इन गेंदों को मिस करता तो मैं इसे प्रैशर फैक्‍टर जरूर मानता।”