Ottis Gibson ask AB De Villiers to play ODI at least with 2019 World Cup coming up
AB de Villiers and Faf du Plessis © Getty Images

दक्षिण अफ्रीकी दिग्गज एबी डिविलियर्स के संन्यास लेने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए टीम के कोच ओटिस गिब्सन ने कहा कि वो चाहते थे कि एबी वनडे क्रिकेट खेलें। गिब्सन ने बताया कि एबी के संन्यास की बात सुनकर उन्हें बड़ा झटका लगा था और उन्होंने एबी को कम से कम वनडे खेलने के लिए मनाने की कोशिश भी की थी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गिब्सन ने कहा, “हमने उसे आईपीएल में स्पाइडरमैन कैच लेते हुए देखा और ऐसा लग रहा था कि वो क्रिकेट का मजा ले रहा है। इस वजह से ये खबर और भी चौंकाने वाली थी। मैने उससे ये जरूर कहा कि, ‘आने वाले विश्व कप को देखते हुए ऐसा नहीं हो सकता कि टेस्ट क्रिकेट छोड़कर केवल वनडे क्रिकेट खेलो?’ और उसने जवाब दिया कि उसने उन सभी लोगों से बात कर ली है, जिनसे उसे बात करनी थी और उसके बाद ही ये फैसला लिया है। एक बार उसने फैसला ले लिया था तो मेरे उसका मन बदलने की कोशिश करने का कोई मतलब नहीं था। उसने ऐसे ही इतना बड़ा फैसला नहीं लिया होगा।”

link-to-post url=”http://www.cricketcountry.com/hi/news/david-warner-cameron-bancroft-set-to-play-club-cricket-in-july-716752″][/link-to-post]

डिविलियर्स हमेशा से ही दक्षिण अफ्रीका के लिए विश्व कप जीतना चाहते थे लेकिन अब उनके 2019 विश्व कप खेलने की कोई संभावना नहीं है। ऐसे में दक्षिण अफ्रीकी टीम को अपनी योजनाओं में बदलाव करना पड़ सकता है। इस बारे में कोच गिब्सन ने कहा, “जाहिर है हमने अपने योजनाओं में बदलाव करना होगा लेकिन हमारे पास ऐसा करने के लिए समय है। वो दुनिया का सबसे बड़े खिलाड़ियों में से एक है और उसकी मौजूदगी विश्व कप में बड़ा अंतर पैदा कर सकती थी और ये बात वो भी जानता है। उसने इस समय पर खेल से दूर होने का फैसला लिया है और इसे बदला नहीं जा सकता। हां, ये हमारे देश और विश्व क्रिकेट के लिए निराशाजनक है लेकिन इससे किसी और को आगे आने का मौका मिलेगा।”

विश्व कप की योजनाओं के बारे में बात करते हुए गिब्सन ने डेल स्टेन और वर्नान फिलेंडर के वनडे टीम में शामिल होने की तरफ इशारा किया। साथ ही एबी की जगह लेने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में उन्होंने एडन मारक्रम का नाम ऊपर रखा। गिब्सन ने कहा कि विश्व कप से पहले उनकी टीम के पास 18 अंतर्राष्ट्रीय मैच हैं, ऐसे में उनके पास सही खिलाड़ी चुनने का काफी समय है।