Pakistan’s Mohammad Abbas used to work as a welder and in a leather factory
Mohammad Abbas © AFP

इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में पाकिस्तान के नायक रहे 28 साल के मोहम्मद अब्बास, अब तक 7 टेस्ट मैचों में 40 विकेट ले चुके हैं। अब्बास ने लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर खेले गए पहले टेस्ट मैच में आठ विकेट लेकर पाकिस्तान की जीत में बड़ी भूमिका निभाई। पाकिस्तान को इंग्लैंड की जमीन पर जीत दिलाने के साथ ही अब्बास ने विश्व क्रिकेट में अपनी पहचान बनाई लेकिन उनकी कहानी की शुरुआत काफी मुश्किलों भरी रही थी। पाकिस्तान के सियालकोट के रहने वाले अब्बास क्रिकेट खेलने से पहले कोर्ट में ऑफिस बॉय का काम करते थे। अब्बास ने शुरुआती दिनों में लेदर फैक्ट्री और वेल्डिंग का काम भी किया है।

ICC ODI रैंकिंग में शामिल हुई नेपाल, नीदरलैंड्स, यूएई और स्कॉटलैंड
ICC ODI रैंकिंग में शामिल हुई नेपाल, नीदरलैंड्स, यूएई और स्कॉटलैंड

द टेलीग्राफ को दिए इंटरव्यू में इस तेज गेंदबाज ने कहा, “क्रिकेट से पहले मेरी जिंदगी चुनौती भरी थी लेकिन उन मुश्किलों में मुझे क्रिकेट में मदद की क्योंकि जब में खेल में आया तो मैं परेशानियों से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार था। वेल्डिंग और लेदर फैक्ट्री के बाद मैं कोर्ट में ऑफिस बॉय था और जमीन जायदाद से जुड़े मामलों के दस्तावेज रजिस्टर किया करता था।” अब्बास को कोर्ट में काम करते हुए ही अंडर-19 क्रिकेट खेलने का मौका मिला। ऐसे में उनके सामने नौकरी और क्रिकेट में से किसी एक को चुनने का रास्ता था लेकिन एक दोस्त की सलाह पर उन्होंने दोनों जारी रखने का फैसला किया।

अब्बास ने अंडर-19 क्रिकेट से जुड़े एक किस्से के बारे में बात करते हुए कहा, “एक टूर्नामेंट के दौरान टीम को मेरे और सेक्रेटरी के बेटे में किसी एक को चुनना था और उन्होंने ये फैसला टॉस के जरिए लिया। सिक्का मेरे पक्ष में रहा और मैने पांच विकेट लिए। उसके बाद में रीजनल अकादमी में गया और वहां से मुझे रोकना नामुमकिन था।”

पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज कप्तान मिसबाह उल हक 2016 में ही अब्बास को टेस्ट टीम का हिस्सा बनाना चाहते थे लेकिन बोर्ड इससे सहमत नहीं था। हालांकि न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच टेस्ट हारने के बाद बोर्ड वेस्टइंडीज के दौरे पर अब्बास को ले जाने के लिए तैयार हो गया। अब्बास ने किंग्सटन में खेले गए पहले मैच में डेब्यू किया था।