Ravi Shastri accepts Team India should have come to South Africa ten days before Test series
रवि शास्त्री © Getty Images

दक्षिण अफ्रीका दौरे पर लगातार दो टेस्ट मैचों में खराब प्रदर्शन के बाद भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री ने आखिर मान लिया कि टीम को इस दौरे के शुरू होने से दस दिन पहले यहां आ जाना चाहिये था। जिससे खिलाड़ी यहां की परिस्थितियों से तालमेल बिठा पाते। शास्त्री ने कहा कि भविष्य में टीम के दौरे पर तैयारियों के लिए और अधिक समय दिया जाना चाहिए। शास्त्री ने कहा, ‘‘सीरीज में 0-2 से पिछड़ने का मुख्य कारण ‘विदेशी हालात’ हैं। भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका दौरे पर 28 दिसंबर को पहुंची थी और पहला टेस्ट मैच पांच जनवरी से था।

भारतीय कोच ने अभ्यास सेशन के बाद कहा, ‘‘मैं कहना चाहूंगा कि यहां अभ्यास के लिए 10 दिन और मिलते तो काफी बदलाव होता। हम कोई बहाना नहीं बनाना चाहते, हम जिस पिच पर खेले वह दोनों टीमों के लिए थी और मैं उस बात पर ध्यान देना चाहूंगा की दोनों टेस्ट में हमने 20 विकेट लिए। जिससे हमें दोनों मैचों में जीतने का मौका मिला। अगर हमारा बल्लेबाजी क्रम चलता है तो तीसरा मैच भी अच्छा होगा।’’

भारतीय बल्लेबाजों को स्कूली बच्चों जैसी गलतियां करने से बचना होगा: रवि शास्त्री
भारतीय बल्लेबाजों को स्कूली बच्चों जैसी गलतियां करने से बचना होगा: रवि शास्त्री

शास्त्री ने आगे कहा, ‘‘एक विचार था कि टेस्ट स्पेशलिस्ट खिलाड़ियों को पहले भेजा जाए लेकिन फिर टीम एक साथ नहीं होगी। ऐसे विचारों को पीछे रखकर मैं कहना चाहूंगा की आगे से किसी दौरे पर टीम को दो सप्ताह पहले भेजा जाए। बदकिस्मती से इस बार कार्यक्रम ऐसा था कि श्रीलंका के खिलाफ हमारे मैच थे लेकिन मैं आश्वस्त हूं कि आगे से टीम का कार्यक्रम तय करते समय इन बातों का ख्याल रखा जायेगा। इसमें कोई शक नहीं है कि आपको दौरे पर दो सप्ताह पहले पहुंचना चाहिए।’’

गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया 

सीरीज के पहले दो टेस्ट मैचों के बारे में शास्त्री ने गेंदबाजों की तारीफ करते हुये कहा कि उन्होंने नंबर एक टीम के गेंदबाजों की तरह प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा, ‘‘किसी को यह उम्मीद नहीं थी कि हमारे गेंदबाज ऐसी गेंदबाजी करेंगे और 20 विकेट लेंगे। इस दौरे का सबसे बड़ी सकारात्मक चीज यही है। हम यहां अपनी गलतियों से सीखने आये हैं।’’ भारतीय टीम कभी भी दक्षिण अफ्रीका में सीरीज 0-3 से नहीं हारी है। शास्त्री ने कहा कि ड्रेसिंग रूम में टीम का मनोबल ऊंचा है क्योंकि टीम विदेशी हालात में मैच जीतने के मौके बना रही है।