Ravichandran Ashwin, Kuldeep Yadav should play in Test series against England, says Mohammad Azharuddin

इंग्लैंड के कई दौरों पर टीम इंडिया का हिस्सा रहे पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन का मानना है कि भारतीय टीम को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में दो स्पिनरों रविचंद्रन अश्विन और कुलदीप यादव के साथ उतरना चाहिए क्योंकि साल के इस समय विकेट सूखे होंगे।

वर्ष 1986 में इंग्लैंड को उसी की सरजमीं पर हराने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे अजहर ने कहा कि बर्मिंघम में अगले महीने शुरू हो रही पांच टेस्ट की सीरीज के दौरान भारतीय टीम के पास इंग्लैंड को उसी की सरजमीं पर हराने का सर्वश्रेष्ठ मौका है क्योंकि विराट कोहली की अगुआई वाली टीम खेल के सभी विभाग में मजबूत है।

अपने खिलाड़ियों को मां-बहन की गाली देने की इजाजत नहीं देते कैप्‍टन कूल
अपने खिलाड़ियों को मां-बहन की गाली देने की इजाजत नहीं देते कैप्‍टन कूल

यहां पीटीआई को दिए साक्षात्कार में अजहर ने कहा, ‘‘इंग्लैंड के लिए भारत को हराना काफी मुश्किल होगा क्योंकि उनका तेज गेंदबाजी आक्रमण अच्छा नहीं है। हमारी टीम काफी मजबूत है। उनके पास जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्राड के रूप में सिर्फ दो अच्छे गेंदबाज हैं लेकिन उनके साथ चोटिल होने का खतरा है और वे अपने करियर के अंतिम पड़ाव पर हैं।’’

अजहर ने कहा कि भारत को कुलदीप को मौका देना चाहिए क्योंकि सीमित ओवरों में इंग्लैंड की टीम को उनके खिलाफ संघर्ष करना पड़ा था। अजहर ने हालांकि कहा कि टीम चयन विकेट पर निर्भर करेगा लेकिन संयोजन तीन तेज गेंदबाजों और दो स्पिनरों का होना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘अगर घास वाली पिच है तो वे 4-1 के साथ उतर सकते हैं लेकिन मेरा मानना है कि अगर आप जीतना चाहते हैं तो 3-2 बेहतर संयोजन है। क्योंकि बाद में पिच सूख जाएगी। वहां गर्मी है और पिच से स्पिन मिलेगी विशेषकर अंतिम दो दिन।’’

अजहर ने कहा, ‘‘इंग्लैंड का पलड़ा तभी भारी होगा अगर पिचों पर घास होगी लेकिन अगर पिच पर घास हुई तो उन्हें भी जूझना पड़ेगा क्योंकि हमारे पास भी काफी अच्छे स्विंग गेंदबाज हैं।’’ इस पूर्व कप्तान ने कुलदीप की तारीफ की और कहा कि फार्म के आधार पर उसे चुना जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘वह अच्छा प्रदर्शन कर रहा है इसलिए उसे चुना जाना चाहिए और इंग्लैंड की टीम उनके खिलाफ जूझ रही है। अश्विन और कुलदीप को खिलाया जाना चाहिए। मुझे नहीं लगता कि जडेजा को टीम में जगह मिलेगी।’’

अजहर का हालांकि मानना है कि अगर भारत 4-1 के संयोजन के साथ उतरता है तो अश्विन को उनके अनुभव के कारण एकमात्र स्पिनर के रूप में टीम में जगह मिलनी चाहिए। भारत की 47 टेस्ट में अगुआई करने वाले अजहर ने कोहली की कप्तानी की तारीफ की लेकिन कहा कि उन्हें अब भी लंबा सफर तय करना है। यह पूछने पर कि क्या ‘यो यो टेस्ट’ फिटनेस परखने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है। अजहर ने कहा, ‘‘यह टीम के चयन से पहले होना चाहिए, बाद में नहीं।’’ अजहर ने साथ ही मौजूद भारतीय टीम को अब तक की सबसे फिट टीम भी बताया।