Rishabh pant is as good as sachin tendulkar & Virat Kohli
Rishabh pant © IANS

दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स के बल्‍लेबाज रिषभ पंत बेहद प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं। 20 साल के पंत ने आईपीएल-11 के 42वें मैच में बल्‍ले से ऐसा धमाका किया जिसने कइयों को दांतों तले अंगुली दबाने पर मजबूर कर दिया। इस युवा विकेटकीपर के पास गजब का जज्‍बा है।

रिषभ पंत का शतक बेकार, हैदराबाद ने दिल्‍ली को 9 विकेट से रौंद प्‍लेऑफ के लिए किया क्‍वालीफाई
रिषभ पंत का शतक बेकार, हैदराबाद ने दिल्‍ली को 9 विकेट से रौंद प्‍लेऑफ के लिए किया क्‍वालीफाई

रिषभ ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ गुरुवार को 63 गेंदों पर नाबाद 128 रन की पारी खेली। हालांकि उनकी टीम को इस मैच में जीत नहीं मिली। हैदराबाद ने दिल्‍ली को नौ विकेट से पराजित कर प्‍लेऑफ में अपनी जग‍ह पक्‍की कर ली।

पिछले साल पंत के पिता का देहांत हो गया था। उस समय यह बाएं हाथ का बल्‍लेबाज आईपीएल में व्‍यस्‍त था। हालांकि पिता का अंतिम संस्‍कार के लिए उन्हें रूड़की जाना पड़ा था। किसी भी खिलाड़ी के लिए यह बड़ा झटका था। लेकिन पंत नेे  जीवटता दिखाते हुए खुद को संभाला और पिता का अंतिम संस्‍कार कर वह वापस दिल्‍ली लौट आए। वापसी के बाद पंत ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ अर्धशतकीय पारी खेल सबका दिल जीत लिया था। वर्ष 2017 में भी पंत दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स टीम का हिस्‍सा थे।

इससे पहले सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली भी इसी तरह की जीवटता दिखा चुके थे। वर्ष 1999 की बात है। जब वर्ल्‍ड कप के दौरान सचिन ने अपने पिता को खो दिया था। सचिन पिता की अंत्‍येष्टि के लिए भारत लौट आए थे। इसके बाद उन्‍होंने इंग्‍लैंड लौटकर केन्‍या के खिलाफ 140 रन की पारी खेली थी। उस समय स्‍टेडियम में मौजूद दर्शकों ने सचिन का अभिवादन खड़े होकर किया था।

आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की कप्‍तानी कर रहे विराट कोहली को भी वर्ष 2006 में ऐसी ही स्थिति से दो-चार होना पड़ा था। जब उनके पिता का ब्रेन स्‍ट्रोक के कारण निधन हो गया था। तब विराट 18 साल के थे और कर्नाटक के खिलाफ कोटला स्‍टेडियम में रणजी मैच खेल रहे थे। विराट 40 रन पर नाबाद थे और उसी रात उनके पिता का निधन हो गया था। विराट ने अगले दिन मैच में उतर हर किसी को हैरान कर दिया था। उन्होंने 90 रन पारी खेलकर अपनी टीम को मुश्किल से उबारा और फिर पिता के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे।