Rohit Sharma: Dinesh Karthik is ready for every situation
दिनेश कार्तिक © AFP

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि स्थिति कैसी भी हो दिनेश कार्तिक अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिये हमेशा तैयार रहता है। उनका अनुभव और हर तरह के शॉट लगाने की काबिलियित की वजह से वो डेथ ओवरों में भारत के लिए आदर्श खिलाड़ी बन जाते हैं। विकेटकीपर बल्लेबाज कार्तिक ने बांग्लादेश के खिलाफ कल रात यहां निदाहास ट्रॉफी ट्राई टी20 फाइनल में आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर भारत को खिताब दिलाया। रोहित ने पत्रकारों से कहा, ‘‘वो दक्षिण अफ्रीका के पिछले दौरे में हमारे साथ था और उसे वहां खेलने का ज्यादा मौका नहीं मिला। आज उसने जो कुछ किया उससे आगे के लिए उसका आत्मविश्वास बढ़ेगा।सबसे अहम बात ये है कि उसे खुद पर विश्वास है। स्थिति कैसी भी हो वह तैयार रहता है चाहे वह ऊपरी क्रम में बल्लेबाजी करे या निचले क्रम में। हम अपनी टीम में इस तरह का खिलाड़ी चाहते हैं।’’

ऊपरी क्रम में ना भेजे जाने से नाराज से कार्तिक

टी20 अंतर्राष्ट्रीय में आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर मैच जिताने वाले पहले भारतीय बने दिनेश कार्तिक
टी20 अंतर्राष्ट्रीय में आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर मैच जिताने वाले पहले भारतीय बने दिनेश कार्तिक

रोहित ने खुलासा किया कि कार्तिक ऊपरी क्रम में बल्लेबाजी के लिए नहीं भेजे जाने से नाखुश थे लेकिन भारतीय कप्तान ने उन्हें सातवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजने के फैसले का बचाव किया। उन्होंने कहा, ‘‘जब मैं आउट हुआ और डग आउट में बैठा था तो कार्तिक थोड़ा नाराज था कि उसे छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए नहीं भेजा गया। लेकिन मैंने उससे कहा, मैं चाहता हूं कि आप हमारे लिये मैच का अंत करो, क्योंकि आपके कौशल की अंतिम तीन या चार ओवरों में जरूरत पड़ेगी। यही वजह थी कि उसे 13वें ओवर में मेरे आउट होने के बाद छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए नहीं भेजा गया। वो इससे खफा था लेकिन मैच का खत्म करके अब बहुत खुश है।’’

कार्तिक की जमकर तारीफ करते हुए रोहित ने कहा, ‘‘उनके पास जिस तरह के शॉट हैं उससे वह डेथ ओवरों में मैच को फिनिश करने के लिए सही खिलाड़ी है जहां आपको एक फील्डर को सर्किल के अंदर फाइन लेग, मिड आफ या शॉर्ट थर्ड मैन पर रखना पड़ता है। वो हमेशा उस तरह के शॉट खेल सकता है जो उसने रूबेल हुसैन पर आखिर में खेला था। वो उसके बारे में जानता है। मुझे लगा कि मुस्ताफिजुर रहमान 18वां और 20वां ओवर करेगा और उसका सामना करने के लिए अनुभवी बल्लेबाज का क्रीज पर होना जरूरी था। हम जानते थे कि वो ऑफ कटर करेगा और उसके लिए दिनेश सबसे बेहतर पसंद होता। वह अपनी राज्य की टीम और मुंबई इंडियन्स के लिये ऐसा करता रहा है।’’

वाशिंगटन सुंदर और युजवेंद्र चहल ने टूर्नामेंट में सर्वाधिक 8-8 विकेट लिए। रोहित ने सुंदर की काफी तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि इस सीरीज में सुंदर की गेंदबाजी हमारे लिए जादुई रही। नई गेंद से उसने जो प्रदर्शन किया वह बेजोड़ है। हर कोई पावरप्ले में गेंदबाजी करने का दबाव नहीं झेल सकता। यह नहीं भूलना चाहिए उसने इस दौरान विकेट भी लिये। उसने किसी भी विपक्षी टीम को पावरप्ले में रन नहीं बनाने दिये।’’

सुंदर को मैन आफ द सीरीज चुना गया और उन्होंने कहा कि पावरप्ले में गेंदबाजी करना चुनौतीपूर्ण था। इस आफ स्पिनर ने कहा, ‘‘ये मेरे लिये काफी मायने रखता है विशेषकर इतनी कम उम्र में इस तरह का पुरस्कार हासिल करना। यह (पावरप्ले में गेंदबाजी करना) चुनौतीपूर्ण भूमिका है लेकिन जब आप अपने देश के लिये खेलते हो तो यह सम्मान होता है।’’