Rohit Sharma: We could have accelerated a bit more towards the end
रोहित शर्मा © AFP

निदास ट्रॉफी में टीम इंडिया के अभियान का आगाज हार के साथ हुआ। कोलंबो में खेले गए पहले टी20 मैच में मेजबान श्रीलंका ने भारत को 5 विकेट से हरा दिया। मैच के बाद मीडिया से बातचीत में कप्तान रोहित शर्मा ने माना कि लक्ष्य को बचाया जा सकता था। उन्होंने माना कि बल्लेबाजी के लिए मददगार इस विकेट पर आखिर के ओवरों में थोड़ा और जोर खेलना चाहिए था। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि हमने सही स्कोर बनाया था, निश्चित तौर पर इसे बचाया जा सकता था। हम आखिर में थोड़ा और तेज खेल सकते थे। ये अच्छा विकेट था। उन्हें जिस तरह की शुरुआत मिली वो काबिले तारीफ थी। श्रीलंका को जीत का काफी श्रेय जाना चाहिए, उनके पूरे बल्लेबाजी क्रम को श्रेय मिलना चाहिए।”

निदास ट्रॉफी 2018: कुसल परेरा के धमाकेदार अर्धशतक की मदद से श्रीलंका ने भारत को मात दी
निदास ट्रॉफी 2018: कुसल परेरा के धमाकेदार अर्धशतक की मदद से श्रीलंका ने भारत को मात दी

भारत की ओर से शिखर धवन ने शानदार 90 रनों की पारी खेली लेकिन उनके अलावा किसी और बल्लेबाजी ने कोई बड़ा स्कोर नहीं बनाया। खुद कप्तान रोहित भी शून्य पर आउट हो गए। रोहित ने कहा कि टीम अगले मैच में ये गलतियां नहीं दोहराएगी। उन्होंने कहा, “मुझे यकीन है कि हम अपनी गलतियों से सबक लेंगे। मेरा मानना है कि हमारी गेंदबाजी क्रम के पास अच्छा खासा अनुभव है। उनके लिए ये नया है, अब उन्हें इस तरह के हालातों का अच्छी तरह से अनुभव हो गया है। हम सभी जानते हैं कि इस तरह के विकेट पर हमें जितनी हो सके उतनी आक्रामक बल्लेबाजी करनी होती है। कई ऑलराउंडर खिलाड़ियों के साथ हमारा स्क्वाड पूरी तरह तैयार है और इससे हमारी टीम में संतुलन आता है।”भारतीय टीम का दूसरा मैच 8 मार्च को बांग्लादेश के खिलाफ है। दूसरा टी20 भी कोलंबो के आर प्रेमदास स्टेडियम में ही खेला जाएगा।

ये करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी: कुसल परेरा

वहीं श्रीलंका के जीत ने नायक रहे कुसल परेरा ने भारत के खिलाफ खेली अर्धशतकीय पारी को करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी बताया है। मैन ऑफ द मैच का खिताब मिलने के बाद परेरा ने कहा, “ये यकीनन मेरी सर्वश्रेष्ठ पारी है लेकिन मैने और बेहतर पारियां खेली हैं। मैने खुद पर भरोसा जताया और गेंद को सही तरीके से खेलने के लिए कड़ी मेहनत की। गेंदबाजों ने भारत को 174 पर रोककर अच्छा काम किया। उन्हें भी श्रेय मिलना चाहिए।”