Sanju Samson, Rishabh Pant should be groomed in domestic circuit, says Syed Kirmani
Sanju Samson, Rishabh Pant © BCCI

भारत के युवा विकेटकीपर बल्लेबाजों ने इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें सीजन में शानदार प्रदर्शन किया है। दिल्ली डेयरडेविल्स के रिषभ पंत और राजस्थान रॉयल्स के संजू सैमसन का नाम इस लिस्ट में सबसे आगे है। हालांकि भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज सैयद किरनामी का मानना है कि इन खिलाड़ियों के प्रदर्शन में अभी और सुधार होना बाकी है। किरमानी ने हिंदुस्तान टाइम्स को दिए बयान में कहा, “अंडर-19 और दूसरी टीमों के युवा विकेटकीपर बल्लेबाजों का स्तर और अच्छा हो रहा है। वो अच्छा काम कर रहे हैं लेकिन उन्हें अभी बहुत सुधार करना है जो कि अनुभव के साथ ही आएगा। उन्हें अलग अलग स्थितियों और पिचों का अनुभव हासिल करने के लिए अच्छे स्पिनरों के खिलाफ खेलना चाहिए।”

बीसीसीआई इन युवा विकेटकीपर बल्लेबाजों को महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास लेने के बाद के लिए तैयार कर रही है। ऐसे में जरूरी है कि इनका खेल भी धोनी के स्तर का है। किरमानी ने आगे कहा, “संजू और रिषभ को घरेलू क्रिकेट में तैयार किया जाना चाहिए लेकिन लंबा समय लिया जाना चाहिए। आप केवल एक सीजन के प्रदर्शन को नहीं देख सकते। इसके बाद ही आपको पता चलेगा कि वो कहां ठहरते हैं। रिषभ ने आईपीएल में जिस तरह के विस्फोटक स्ट्रोक खेले, मुझे नहीं लगता कि टेस्ट, चार दिवसीय या वनडे में ऐसे शॉट खेलेगा।”

महिला टी20: मिताली राज, डेनियल वाट की शानदार साझेदारी की मदद से सुपरनोवा ने ट्रेलब्लेजर्स को हराया
महिला टी20: मिताली राज, डेनियल वाट की शानदार साझेदारी की मदद से सुपरनोवा ने ट्रेलब्लेजर्स को हराया

1983 की विश्व कप विजेता टीम के सदस्य रहे किरमानी ने कहा, “खिलाड़ियों की ग्रूमिंग जरूरी है। इससे उन्हें अनुभव और आत्मविश्वास मिलता है। अगर उन्हें लंबे समय तक खेलना है, उन्हें अपना सिर नीचे रखना होगा। मैने कई युवा खिलाड़ियों को पैसे और ताकत के चक्कर में अंधेरे में खोते हए देखा है।” किरमानी चाहते हैं धोनी जब तक चाहें तब तक क्रिकेट खेलें लेकिन वो ये भी जानते हैं कि विकल्प तैयार करना जरूरी है।

उन्होंने कहा, “हर टीम में दो स्पेशलिस्ट विकेटकीपर होने चाहिए, केवल कामचलाऊ नहीं। धोनी जब तक खेल सकते हैं उन्हें खेलना चाहिए लेकिन उन्हें सपोर्ट करने के लिए एक और विकेटकीपर होना चाहिए। दिनेश कार्तिक, पार्थिव पटेल और ऋद्धिमान साहा ये लोग काफी अनुभवी हैं। टीम को इन तीनों को बारी बारी से मौका देना चाहिए और जो भी लगातार अच्छा प्रदर्शन करे, फिट हो उसे सिलेक्ट किया जाना चाहिए।”