Shane Warne: Ajinkya Rahane will make limited-overs comeback for India
Ajinkya Rahane (File Photo) © AFP

अजिंक्य रहाणे को एक शानदार खिलाड़ी बताते हुए दिग्गज लेग स्पिनर और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की टीम राजस्थान रॉयल्स के मेंटॉर शेन वॉर्न ने कहा कि रहाणे जल्द ही भारत के सीमित ओवरों की टीम में वापसी करेंगे। आईपीएल के 11वें सीजन में रहाणे का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है। इसी कारण उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ खेली जाने वाली वनडे और टी-20 टीम से बाहर जाना पड़ा।

राजस्‍थान के खिलाफ हार से रोहित को लगा झटका, मिली ये सीख
राजस्‍थान के खिलाफ हार से रोहित को लगा झटका, मिली ये सीख

वार्न ने कहा, “मेरा मानना है कि रहाणे निश्चित ही निराश होंगे, लेकिन वो शानदार खिलाड़ी हैं। उनमें काफी योग्यता है। हम उनकी क्लास को जानते हैं।” पूर्व आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कहा, “वो अफगानिस्तान के खिलाफ टेस्ट टीम की कप्तानी करेंगे। वो अच्छे खिलाड़ी हैं और जल्द ही टीम में वापसी करेंगे। वह जल्द ही वनडे और टी-20 खेलते नजर आएंगे।”

जोफ्रा आर्चर की मौजूदगी से प्‍लेऑफ में पहुंचने की संभावना ज्‍यादा

वॉर्न ने अपनी टीम में शामिल वेस्टइंडीज के जोफ्रा आर्चर की भी जमकर तारीफ की है। वो शुरुआत के कुछ मैच नहीं खेल पाए थे लेकिन बाद में टीम में शामिल होने के बाद उन्होंने बेहतरीन गेंदबाजी की है और टीम को जीत के रास्ते पर वापस लौटने में मदद की है। वॉर्न ने आर्चर के बारे में कहा, “आर्चर क्लास खिलाड़ी हैं। उनके रहते हमारे प्लेऑफ में जाने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। वो शुरुआत के कुछ मैचों में नहीं खेले इससे निराशा है।” टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबादों में दूसरे स्थान पर कायम वॉर्न ने कहा, “आर्चर जैसे खिलाड़ियों के रहने से टीम को काफी मदद मिलती है। उन्होंने हमारे लिए शानदार प्रदर्शन किया है।”

ऑस्‍ट्रेलिया का कप्‍तान नहीं बनने का अफसोस नहीं

वार्न से जब पूछा गया कि क्या उन्हें कभी इस बात का अफसोस हुआ है कि वो ऑस्ट्रेलिया टीम के नियमित कप्तान नहीं बन पाए? इस पर वॉर्न ने कहा, “नहीं, कभी नहीं। मैं भाग्यशाली हूं कि ऑस्ट्रेलियाई टीम में कई अच्छे कप्तानों के साथ खेल सका। मैंने उप-कप्तान बने रहने का लुत्फ उठाया।”
वॉर्न ने माना कि सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली के खिलाफ खेलना हमेशा से मुश्किल भरा रहता था। उन्होंने कहा, “इस बात में कोई शक नहीं है कि वो शानदार खिलाड़ी थे। भारत के पास उस समय कई अच्छे खिलाड़ी थे। उन लोगों के खिलाफ खेलना हमेशा से मुश्किल भरा रहता था।”