Skipper Tim Paine explains Finch’s middle-order shift
Tim Paine © Getty Images

इंग्लैंड के साथ वनडे सीरीज में एरोन फिंच को मिडिल आर्डर में बल्लेबाजी की जिम्मेदारी दी गई है। इस बदलाव के पीछे की वजह को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के नए कप्तान टिम पेन जाहिर किया।

कप्तान पेन को भरोसा है कि अनुभवी ओपनर फिंच ऑस्ट्रेलियाई टीम के मध्यम क्रम को मजबूती देंगे और एकदम से बिखरने की परेशानी दूर होगी। इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे वनडे में मिली शर्मनाक हार के बाद शायद टीम को इस बारे में दोबारा सोचने की जरूरत है।

इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बना ही दिए थे 500 रन, ऐसे चूक गई
इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बना ही दिए थे 500 रन, ऐसे चूक गई

इंग्लैंड दौरे पर पांचवें नंबर पर खेल रहे फिंच

फिंच को इंग्लैंड दौरे पर मिडिल ऑर्डर में खेलने के लिए भेजा गया। डेब्यू के बाद यह पहला मौका है जब फिंच ने टीम की ओपनिंग नहीं की हो। अब तक खेले गए कुल 90 मुकाबलों में फिंच बतौर ओपनर ही टीम के लिए खेले हैं। इंग्लैड सीरीज में उनको नंबर पांच पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया। ट्रैविस हेड और डार्सी शॉर्ट ने टीम के लिए पारी की शुरुआत की है।

ट्रैविस हेड और डार्सी शॉर्ट पर ओपनिंग की जिम्मेदारी

बाएं हाथ की इस ओपनिंग जोड़ी ने ऑस्ट्रेलिया के लिए दो मुकाबले में 24 और 27 रन की साझेदारी निभाई है। वहीं पांचवें नंबर पर उतरे फिंच भी अब तक दो मुकाबलों में सिर्फ 20 रन ही बना पाए हैं। उन्होंने कहा, ‘चयनकर्ता फिंच को अलग -अलग स्थान पर आजमाना चाहते हैं। ऑस्ट्रेलिया की टीम अगले साल होने वाले विश्वकप से पहले बेहतर कॉबिनेशन हासिल करना चाहती है।’

तीसरे वनडे में ऑस्ट्रेलिया को मिली शर्मनाक हार

नॉटिंघम में इंग्लैंड से मिली 242 रन की हार के बाद कप्तान ने कहा, ‘हमें पता है उपरीक्रम में फिंच क्या कर सकते हैं । हमें पिछले कुछ समय से मिडिल ऑर्डर में टीम के प्रदर्शन से परेशानी है। लिहाजा हमको यह मालूम करना है कि क्या फिंच वो हैं जो विश्व कप में हमारे लिए इस परेशानी को दूर कर सकते हैं।’

आगे उन्होंने कहा, ‘फिलहाल तो हम देख रहे हैं हमारे पास विश्व कप से पहले अभी 12 महीने का वक्त बचा है। हम इस वक्त कुछ विकल्प तलाश रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया का मध्यम क्रम लगातार फ्लॉप रहा है खास कर वनडे मुकाबलों में। पिछले 16 में से 14 वनडे मैचों में टीम को हार मिली है। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुई थी।’