Sourav Ganguly calls Steve Smith’s ball-temperting act absolute stupidity
Sourav Ganguly(File Photo) © IANS

भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने आज ऑस्‍ट्रलियाई टीम के हर कीमत पर जीतने के रवैये की आलोचना करते हुए कहा कि स्टीव स्मिथ और उनके खिलाड़ियों की दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट में गेंद छेड़छाड़ की योजना पूर्ण तौर पर मूर्खतापूर्ण थी। गांगुली ने इंडिया टुडे चैनल पर पैनल चर्चा में कहा, ‘‘स्टीव स्मिथ को गेंद से छेड़छाड़ की जरूरत नहीं थी। मुझे लगता है कि स्मिथ या डेविड वार्नर या बैनक्रोफ्ट ने जो कुछ किया, वो पूर्ण रूप से बेवकूफाना था। मुझे लगता है कि उन्हें (स्मिथ) कुछ भूल (ब्रेन फेड) गये। पिछली बार जब वह भारत में थे तो उन्होंने कहा था कि उन्हें ब्रेन फेड हो गया था और यह घटना भी यही कहने के लिये थी। लेकिन इस घटना के बाद मुझे लगता है कि उन्हें सचमुच ब्रेन फेड हो गया था।’’

बॉल टेंपरिंग मामला: एमसीसी ने स्टीवन स्मिथ की आलोचना की
बॉल टेंपरिंग मामला: एमसीसी ने स्टीवन स्मिथ की आलोचना की

गांगुली ने कहा, ‘‘यह सब ऑस्ट्रेलियाई टीम का किसी भी हालत में जीत दर्ज करने के लिये होता है, जो सही नहीं है। ऑस्ट्रेलिया इसी तरह से क्रिकेट खेलती रही है। उनकी अपने करियर में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों से काफी भिड़ंत होती रही है।” उन्होंने कहा, ‘‘2008 में जब एक ही टीम खेल भावना के अंतर्गत खेल रही थी, मैं 60 रन के स्कोर पर खेल रहा था और रिकी पोंटिंग ने मुझे एक बाउंसर पर आउट किया। मेरे आउट होने के बाद टेस्ट मैच अलग हो गया।’’

पूर्व भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह भी चर्चा का हिस्सा थे। उन्होंने कहा, ‘‘बिना किसी सबूत (2008 में मंकीगेट प्रकरण) और किसी भी उचित जांच के बिना मुझ पर तीन मैच का प्रतिबंध लगा दिया गया और यहां आप देखिये बैनक्रोफ्ट ने गेंद से छेड़छाड़ की थी और उन पर केवल 75 प्रतिशत फीस का जुर्माना लगाया गया। स्मिथ और बैनक्रोफ्ट दोनों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए थी। मैं यह नहीं कहूंगा कि छह महीने या आजीवन प्रतिबंध लगे लेकिन कम से कम दो या तीन मैचों का प्रतिबंध लगना चाहिए था।’’