Sourav Ganguly opposes scraping toss in Test cricket
Sourav Ganguly © CC

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने सोमवार को कहा कि वाे टेस्ट क्रिकेट में टॉस खत्म करने के विचार से सहमत नहीं हैं। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की योजना टेस्ट में टॉस की प्रथा खत्म करने की है और पहले बल्लेबाजी या गेंदबाजी करने का फैसला मेजबान टीम के उपर छोड़ने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है।

रवींद्र जडेजा की पत्‍नी हुई रोडरेज का शिकार, जामनगर में पुलिसकर्मी ने की मारपीट
रवींद्र जडेजा की पत्‍नी हुई रोडरेज का शिकार, जामनगर में पुलिसकर्मी ने की मारपीट

इस विचार के विरोध में भारतीय टीम के दो पूर्व कप्तानों- बिशन सिंह बेदी और दिलीप वेंगसरकर ने आवाज उठाई थी और अब गांगुली ने भी इन दोनों की बातों को समर्थन किया है। गांगुली ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा, “यह देखना होगा की यह प्रयोग लागू होता या नहीं। व्यक्तिगत तौर पर हालांकि मैं टेस्ट में टॉस को खत्म करने के समर्थन में नहीं हूं।”

140 साल पुरानी परंपरा होगी खत्‍म

अगर टॉस हटाया जाता है तो आईसीसीसी अपनी 140 साल पुरानी परंपरा को खत्म कर देगी। इस विचार को आईसीसी की नई सीमित ने पेश किया था जिसमें कई पूर्व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी, कोच और एलिट पेनल के अंपायर शामिल हैं। प्रस्ताव के आने के बाद क्रिकेट जगत इसके पक्ष और विपक्ष में बंटा हुआ है।

ये विदेशी खिलाड़ी टॉस खत्‍म करने के पक्ष में

भारत के पूर्व कप्तान अनिल कुंबले की अध्यक्षता वाली समिति मुंबई में इसी महीने के अंत में होने वाली बैठक में इस पर चर्चा करेगी। ऑस्ट्रेलिया के दो पूर्व कप्तान स्टीव वॉ और रिकी पोंटिंग ने हालांकि इसका समर्थन किया है। वहीं, वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद का मानना है कि इससे प्रतिस्पर्धा में इजाफा होगा।