© Getty Images
© Getty Images

दक्षिण अफ्रीका के कोच ओटिस गिब्सन ने कहा है कि वो चार तेज गेंदबाजों के साथ ही आगे के मैचों में खेलना चाहते हैं, खासकर अपने घर में जहां वह घरेलू परिस्थिति में आक्रामक रवैया अपनाना चाहते हैं। दक्षिण अफ्रीका ने हाल ही में भारत को पहले टेस्ट मैच में 72 रनों से हराया है। इस जीत में उसके तेज गेंदबाजों का सर्वाधिक योगदान रहा। ओटिस गिब्सन ने बयान दिया, “मैं तेज गेंदबाजी को पसंद करने वाला कोच हूं। मुझे लगता है कि हमें हमेशा से चार तेज गेंदबाजों के साथ खेलने के लिए संतुलन बनाने पर ध्यान देना चाहिए। हमें हालांकि परिस्थितियों पर भी ध्यान देना चाहिए जैसे की स्थिति तेज गेंदबाजों के पक्ष में है या नहीं। अगर नहीं तो हमें उस तरह से टीम तैयार करनी चाहिए।”

कोच ने कहा, “हम इस सीरीज में और इन गरमियों में इस बात पर ध्यान देंगे कि हम अपने चार तेज गेंदबाजों को कैसे एक साथ ला सकते हैं।” मेजबान टीम ने पहले टेस्ट मैच में वेर्नोन फिलेंडर, डेल स्टेन, मॉर्ने मोर्केल और कागिसो रबाडा जैसे चार बेहतरीन तेज गेंदबाजों को प्लेइंग इलेवन में जगह दी थी और इन्हीं चार ने भारतीय टीम के मजबूत बैटिंग ऑर्डर को ध्वस्त कर दिया था। भारतीय टीम पहली पारी में 209 और दूसरी पारी में 135 रनों पर ही ढेर हो गई थी। हालांकि पहले टेस्ट में उसके तेज गेंदबाज डेल स्टेन चोटिल होकर सीरीज से बाहर हो गए हैं लेकिन उनके बदले दक्षिण अफ्रीकी टीम ने दो तेज गेंदबाजों को अपने स्क्वॉड में शामिल किया है।

सेंचुरियन में टीम इंडिया कर देगी 'सरेंडर', ये है बड़ी वजह!
सेंचुरियन में टीम इंडिया कर देगी 'सरेंडर', ये है बड़ी वजह!

दक्षिण अफ्रीकी चयनकर्ताओं ने तेज गेंदबाज डुएन ओलिवियर को मौका दिया है, वहीं लुंगी एन्गिडी के तौर पर एक और युवा तेज गेंदबाज को शामिल किया गया है। लुंगी एन्गिडी युवा तेज गेंदबाज हैं, जिनके पास उछाल के साथ-साथ तेजी भी है। लुंगी ने महज 9 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं लेकिन उन्हें द.अफ्रीका का सबसे टैलेंटेड गेंदबाज माना जा रहा है। उन्होंने द.अफ्रीका के लिए 3 टी20 मैच खेले हैं और उनके पास सेंचुरियन में डेब्यू करने का मौका है। वहीं तेज गेंदबाज ओलिवियर ने द.अफ्रीका के लिए 5 टेस्ट मैच खेले हैं। ओलिवियर ने श्रीलंका के खिलाफ पिछले साल डेब्यू किया था, जिसमें उन्होंने 23.11 की बेहतरीन औसत से 17 विकेट अपने नाम किए थे। द.अफ्रीका और भारत के बीच दूसरा टेस्ट 13 जनवरी से खेला जाएगा। (IANS के इनपुट के साथ)