Steven Smith declines to challenge 12-month ban
स्‍टीवन स्मिथ

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान स्टीवन स्मिथ को बॉल टैम्परिंग मामले में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने एक साल के लिए बैन कर दिया है। इस मामले में स्मिथ ने सभी को चौकाते हुए बुधवार को ये कहा है कि वो बैन को चैलेंज कर अपनी सजा को कम कराने का प्रयास नहीं करेंगे। स्‍मिथ ने ट्वीट कर अपने फैन्‍स को इसकी जानकारी दी

गौतम गंभीर के बाद अब जावेद अख्‍तर ने भी दिया अफरीदी के कश्‍मीर राग पर उनकी भाषा में जवाब
गौतम गंभीर के बाद अब जावेद अख्‍तर ने भी दिया अफरीदी के कश्‍मीर राग पर उनकी भाषा में जवाब

स्मिथ ने अपने ट्वीट में कहा, “मैं इस घटना को भूलने और अपने देश का क्रिकेट में फिर से प्रतिनिधित्व करने के लिए कुछ भी करूंगा। मैंने जो कहा, मैं उस बात का मूल्य रखता हूं और मैं टीम के कप्तान के रूप में इस घटना की पूरी जिम्मेदारी लेता हूं। मैं इस बैन के खिलाफ अपील नहीं करूंगा। क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने ये बैन एक कड़ा संदेश देने के लिए लगाया है और मैंने इसे स्वीकार किया है।”

स्मिथ की ओर से इस बैन को स्वीकार किए जाने का मतलब है कि वाे अप्रैल, 2019 में ही क्रिकेट जगत में वापसी कर पाएंगे। इसके दो महीने बाद इंग्लैंड में विश्व कप टूर्नामेंट का आगाज होगा। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज के तीसरे मैच में स्मिथ, पूर्व उप-कप्तान डेविड वॉर्नर और बल्लेबाज कैमरून बैनक्रॉफ्ट को बॉल टैम्परिंग का दोषी पाया गया था और इस मामले की जांच के बाद स्मिथ और वॉर्नर पर एक साल का बैन लगाया गया, जबकि बैनक्रॉफ्ट पर नौ महीने का बैन लगा।

क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने डेविड वार्नर को बॉल टेंपरिंग मामले का मास्‍टरमाइंड माना था। जिसके कारण उनपर आजीवन ऑस्‍ट्रेलिया टीम की कप्‍तानी से रोक लगा दी गई। बैन के बाद देश लौटने के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान स्‍टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर को फूट-फूट कर रोकर अपनी गलती स्‍वीकारते देखा गया था।