Sunil Gavaskar: India didn’t play adequate practice matches before Test series
England Test Team © Getty Images

भारतीय टीम इंग्‍लैंड की धरती पर अपना पहला ही टेस्‍ट मैच बर्मिंघम में 31 रन से हार गई। कप्‍तान विराट कोहली ने अपनी दोनों पारियों में मिलाकर 200 रन बनाए। बाकी कोई भी भारतीय खिलाड़ी पिच पर लंबा समय गुजार कर रन नहीं बना सका। भारतीय टीम के पूर्व दिग्‍गज बल्‍लेबाज सुनील गावस्‍कर ने हार का ठीकरा प्रैक्टिस मैच की कमी पर फोड़ा।

पवन शाह की 77 रन की पारी बेकार, इंडिया अंडर-19 टीम को मिली हार
पवन शाह की 77 रन की पारी बेकार, इंडिया अंडर-19 टीम को मिली हार

लाल और सफेद गेंद अलग-अलग तरह से करती है मूव

इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान सुनील गावस्‍कर ने कहा, “टेस्‍ट क्रिकेट में उतरने से पहले टीम पांच दिनों की क्रिकेट से छुट्टी नहीं ले सकती। भारतीय टीम को पहले टेस्‍ट मैच में उतरने से पहले पर्याप्‍त संख्‍या में प्रैक्टिस मैच खेलने चाहिए थे। उन्‍होंने कहा, “सफेद बॉल जरा भी स्विंग नहीं होती। आधे दर्जन ओवर और उसके बाद तक उसमें जरा भी स्विंग नजर नहीं आता, लेकिन लाल बॉल काफी स्विंग होता है। ऐसे में जब आप वनडे और टी-20 के बाद टेस्‍ट खेलने उतरे हो तो लाल गेंद से खेलने के लिए आप पूरी तरह तैयार नहीं हो सकते।

मैदान पर प्रैक्टिस और थ्रो डाउन प्रैक्टिस में होता है काफी फर्क

सुनील गावस्‍कर ने कहा, ” हमने टेस्‍ट मैच में देखा है कि 40वें और 50वें ओवर में भी गेंद हवा में काफी स्विंग होता है। ऐसे में साफ है कि आपको प्रैक्टिस की काफी जरूरत है। बता दें कि भारत को एसेक्‍स के खिलाफ एक प्रैक्टिस मैच खेलने को मिला था। भारतीय टीम ने इसे चार दिन से घटाकर तीन दिन का कर दिया था। गावस्‍कर ने कहा, हम थ्रो डाउन से प्रैक्टिस को तरजीह दे रहे हैं, लेकिन मैदान में खेलते हुए प्रैक्टिस करना और थ्रो डाउन से प्रैक्टिस करने में काफी अंतर होता है।”