Syed Kirmani questions selector’s makeshift keeper policy
Wriddhiman Saha © IANS

इंग्‍लैंड के खिलाफ एक अगस्‍त से खेले जाने वाली पांच मैचों की टेस्‍ट सीरीज के लिए टीम का ऐलान कर दिया गया है। सिलेक्‍टर्स ने 18 सदस्‍यी टीम की घोषणा की है। रिषभ पंत को पहली बार टीम में मौका मिला है, जबकि कुलदीप यादव ने एक बार फिर टेस्‍ट टीम में वापसी की है। चोटिल रिद्धिमान साहा की जगह सिलेक्‍टर्स ने दिनेश कार्तिक पर दांव चला है।

अपने खिलाड़ियों को मां-बहन की गाली देने की इजाजत नहीं देते कैप्‍टन कूल
अपने खिलाड़ियों को मां-बहन की गाली देने की इजाजत नहीं देते कैप्‍टन कूल

आईपीएल और दक्षिण अफ्रीका दौरे के दौरान वो अंगूठे की चोट से जूझ रहे थे। बैंगलोर स्थित नेशनल क्रिकेट अकादमी में रिहैबिलिटेशन के दौरान उन्‍हें कंधे की चोट लग गई। अब अगस्‍त में उन्‍हें इंग्‍लैंड में ही सर्जरी से गुजरना है। साहा टेस्‍ट टीम में रेगुलर सदस्‍य हैं। ऐसे में उनकी कमी टीम इंडिया को खासी खल रही है। साहा की गैर मौजूदगी में दिनेश कार्तिक के अलावा रिषभ पंत विकेटकीपिंग की कमान संभालेंगे।

भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर बल्‍लेबाज सैयद किरमानी ने टीम की सिलेक्‍शन नीति पर सवाल उठाए। उन्‍होंने कहा, “सिलेक्‍टर्स द्वारा बार-बार विकेटकीपर बदलना उनमें तुजुर्बे की कमी को साफ दिखाता है। सिलेक्‍टर्स को चाहिए कि जिसे भी वो चुन रहे हैं उसे थोड़ा वक्‍त भी दें। आप एक और दो इनिंग में फेल होते हो तो बाहर कर दिया जाता है। सिलेक्‍टर्स सभी बल्‍लेबाजों को अस्थिाई विकेटकीपर बना रहे हैं।”