भरत अरुण © Getty Images
भरत अरुण © Getty Images

तमिलनाडू प्रीमियर लीग की वीबी थिरुवल्लुर वीरंस टीम ने आधिकारिक तौर पर दिग्गज मुथैया मुरलीधरन को मेंटोर और भरत अरुण को कोच घोषित किया। पूर्व श्रीलंकन खिलाड़ी मुरलीधरन इस टीम के साथ जुड़कर काफी खुश हैं। उन्होंने कहा कि, “वीबी चंद्रशेखर ही थे जिन्होंने पहले आईपीएल सीजन में मुझे चेन्नई सुपर किंग्स के लिए चुना था। मेरा दिन हमेशा तमिलनाडू में रहता है क्योंकि मेरे पूर्वज यहीं से है। मैं तमिलनाडू प्रीमियर लीग का हिस्सा बनकर काफी खुश हूं।”

थिरुवल्लुर वीरंस के कोच भरत अरुण ने भी मुरलीधरन की तारीफ की। उन्होंने कहा, “यह जानकर मुझे काफी खुशी हो रही है कि मुरली वीबी टीम के साथ जुड़ेंगे और युवा खिलाड़ियों के साथ रहेंगे। खिलाड़ियों के लिए उनके अनुभव को सुनना बेहतरीन रहेगा।” हालांकि खबरें हैं कि रवि शास्त्री भरत अरुण को टीम इंडिया का नया गेंदबाजो कोच बनाना चाहते हैं। फिलहाल इस मुद्दे को लेकर एकमत नहीं बन पा रहा है लेकिन सीओए ने ये साफ कह दिया है कि किसी भी सपोर्ट स्टाफ की नियुक्ति बिना कोच की सहमति के नहीं होगी। इस बयान के बाद क्रिकेट समीक्षकों ने सीओए की काफी आलोचना की थी। [ये भी पढ़ें: जहीर खान और राहुल द्रविड़ की नियुक्तियों पर विराम लगा]

दरअसल सीओए के लिए बयान के बाद राहुल द्रविड़ और जहीर खान की नियुक्तियों पर रोक लग गई है। इससे नाराज होकर पूर्व सीओए सदस्य रामचंद्र गुहा ने कहा है कि अनिल कुंबले, जहीर और द्रविड़ जैसे दिग्गज खिलाड़ियों का इस तरह से अपमान नहीं किया जाना चाहिए। वहीं सीओए के नए अनुबंध नियम के हिसाब से अगर भरत अरुण टीम इंडिया के गेंदबाजी कोच बनते हैं तो उन्हें तमिलनाडू प्रीमियर लीग छोड़ना पड़ेगा।