Virat Kohli is not a machine but a human being, says Ravi Shastri
Virat Kohli, Ravi Shastri © AFP (File Photo)

भारतीय कप्तान विराट कोहली के इंजरी के चलते सर्रे के लिए काउंटी क्रिकेट ना खेलने के फैसले से फैंस हैरान हैं। बीसीसीआई के प्रेस रिलीज के मुताबिक कोहली को इंडियन प्रीमियर लीग मैच के दौरान गर्दन में चोट लगी थी। बोर्ड नहीं चाहता कि आयरलैंड और इंग्लैंड के दौरे से पहले कोहली की चोट गंभीर हो, इस वजह से उन्हें 15 जून से बैंगलोर की नेशनल क्रिकेट अकादमी में रीहैब करने के लिए कहा गया है। दुनिया के सबसे फिट खिलाड़ियों में से एक कोहली आईपीएल के दौरान मैदान पर पूरी तरह से प्रतिबद्ध नजर आए थे, उनके लगातार अच्छे प्रदर्शन के चलते लोगों को उनके हद से ज्यादा वर्कलोड का पता नहीं चला। कोहली ने पिछले एक साल में टेस्ट, वनडे और टी20 मिलाकर कुल 47 मैच खेले हैं।

'ओलंपिक के लिए अहम है टी20 क्रिकेट लेकिन इसे नियंत्रित करना जरूरी'
'ओलंपिक के लिए अहम है टी20 क्रिकेट लेकिन इसे नियंत्रित करना जरूरी'

कोहली के बढ़े हुए वर्कलोड के बारे में बात करते हुए टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने कहा कि कोहली मशीन नहीं इंसान है और उसे आराम की जरूरत है। पुणे मिरर को दिए बयान में शास्त्री ने कहा, “उसे काउंटी करार छोड़ने पड़ा क्योंकि वो कोई टॉप डॉग नहीं है। वो कोई मशीन नहीं है, बल्कि इंसान है। ऐसा नहीं है कि हम उसकी पीठ पर रॉकेट लगाकर उसे मैदान पर दौड़ा देंगे। ऐसा तो किसी डॉग के साथ भी नहीं किया जा सकता।”

कोहली के काउंटी क्रिकेट ना खेलने से सर्रे के डायरेक्टर एलेक स्टुअर्ट तो निराश हैं ही, साथ ही क्रिकेट फैंस भी काफी दुखी हैं। कोहली के लिए काउंटी क्रिकेट इंग्लैंड की सरजमीं पर प्रदर्शन सुधारने का मौका था। कोहली इंग्लैंड के दौरे पर 2014 में खेली पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में एक अर्धशतक भी नहीं बना पाए थे। टेस्ट क्रिकेट में कोहली का 53.40 का औसत इंग्लैंड में लैंड करते ही 13.40 का हो जाता है।