Virat Kohli: Our Strong belief system helped turn things around against South Africa
विराट कोहली

साल की शुरुआत में जब भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका खेलने पहुंची तो वो मोस्‍ट फेवरेट थी। ऐसा होना लाजमी भी था क्‍योंकि वो इससे पहले लगातार नौ टेस्‍ट सीरीज जीत चुकी थी। उम्‍मीद की जा रही थी कि वो 10वीं टेस्‍ट सीरीज जीतकर विश्‍व कीर्तिमान बनाएगी, लेकिन भारतीय टीम पहले ही टेस्‍ट मैच में फ्लॉप हो गई। जब टीम दूसरा मैच हारने के साथ ही सीरीज गंवा बैठी तो कोहली की सेना क्रिकेट के दिग्‍गजों के निशाने पर आ गई। तमाम आलोचनाओं के बावजूद विराट कोहली एंड कंपनी ने न सिर्फ तीसरा टेस्‍ट मैच जीता बल्कि वो इसके बाद पांच मैचों की वनडे सीरीज और तीन मैचों की टी-20 सीरीज भी जीतने में कामयाब रही।

इंडिया टी-20 लीग शुरू होने से ठीक पहले एक कार्यक्रम में विराट कोहली ने इस जीत पर चर्चा करते हुए कहा, ” जीत के लिए कुछ और नहीं बल्कि खिलाड़ियों का पोजिटिव माइंडसेट जरूरी होता है। पहले दो मैच हारने के बाद हमारे लिए वापसी करना काफी मुश्किल था। ये हमारा बिलिव सिस्‍टम (विश्‍वास) ही था, जिसके कारण हम वापसी कर पाए।” कोहली ने कहा, “कोई भी हमपर विश्‍वास नहीं कर रहा था, लेकिन हमारे कोच, मैनेजमेंट ने हमपर भरोसा बनाए रखा। हम मैच पलटने की हिम्‍मत रखते हैं। हमें एक बात पता थी कि हमारे पास काबिलियत है। हमने अपने गेम पर फोकस रखा।”

तीसरे मैच में पहले बल्‍लेबाजी करने के निर्णय पर कोहली ने कहा, “हमारी इसके लिए आलोचना हुई, लेकिन हमें विश्‍वास था कि हम जीतेंगे। हमें पता था कि विकेट काफी मुश्किल होने वाली है। हम अपने खेल के प्रति बेइमान नहीं थे। हम किसी भी स्‍टेज पर डरे भी नहीं थे। हमे पता था कि ये गेम हमारे साथ अन्‍याय नहीं कर सकता है। हमारी हर तरफ से आलोचना हो रही थी। पर हम पॉजिटिव रहे।  क्रिकेट में कभी भी जीत के लिए केवल एक रास्‍ता नहीं होता है। हमेशा आपका एक रास्‍ता होता है। अगर आप अपने रास्‍ते पर विश्‍वास रखते हो तो आप जीत सकते हो।”