विराट कोहली © AFP
विराट कोहली © AFP

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रांची में खेले जा रहे तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच के पहले दिन विराट कोहली फील्डिंग करने के दौरान अपना कंधा घायल कर बैठे थे और अब उनके टेस्ट मैच में आगे खेलने को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं। खबरों के मुताबिक कोहली के दाहिने कंधे का स्कैन किया जाएगा और उसके बाद ही निर्धारित किया जाएगा कि वह बाकी टेस्ट में खेल पाएंगे कि नहीं। वहीं खबरों में यह भी दावा किया जा रहा है कि कोहली इस मैच में खेलने के लिए मैदान पर नहीं उतरेंगे। वो तब ही उतरेंगे जब बहुत ज्यादा जरूरत होगी।

कोहली ने अपना कंधा पारी के 40वें ओवर में घायल कर लिया था जब उन्होंने पीटर हैंड्सकॉम्ब के एक शॉट का पीछा किया था और बाउंड्री रोकने के चक्कर में उन्होंने डाइव लगाई और इसी दौरान उनका कंधा जमीन से लग गया और वह कंधा चोटिल कर बैठे। इसके बाद वह मैदान से बाहर चले गए थे और बाकी टेस्ट मैच के लिए फिर मैदान में वापस नहीं आए। उनकी गैर- मौजूदगी में अजिंक्य रहाणे ने कप्तान की भूमिका निभाई। इसके बाद कोहली ने पूरे दिन का खेल ड्रेसिंग रूम में बैठकर देखा। और इस दौरान उनके कंधे पर आइस पैक बंधा हुआ दिखाई दे रहा था। अपनी पोस्ट- मैच प्रेस कॉन्फ्रेंस में फील्डिंग कोच आर. श्रीधर ने कहा कि कोहली की चोट के बारे में टीम को पूरी तरह से जानकारी नहीं है कि वह कितनी गंभीर है। [भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, तीसरा क्रिकेट टेस्ट मैच, फुल स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें...]

श्रीधर ने कहा, “विराट कोहली की चोट कैसी है इसके बारे में कल ही पता चलेगा। आज हमने उनकी चोट के साथ एहतियात बरती ताकी चोट और गंभीर न हो जाए।”

आईसीसी के नियमों के मुताबिक अगर कोई खिलाड़ी आठ मिनट से ज्यादा मैदान से बाहर रहता है तो जब उस खिलाड़ी की टीम की बल्लेबाजी की बारी आती है तो उसे उतने ही ओवरों तक मैदान में उतरने की इजाजत नहीं दी जाती जितनी देर तक वह मैदान में अनुपस्थित रहा हो, या, जब तक उसकी टीम 5 विकेट न गंवा दे। लेकिन अगर कोई खिलाड़ी चोटिल हो जाए, नस खिंच जाए तो ये नियम उसपर लागू नहीं होता। इस हिसाब से हम कम से कम कोहली से बल्लेबाजी की आशा तो कर सकते हैं।