Without prior CoA consent, BCCI acting secretary extends Ratnakar Shetty’s contract
बीसीसीआई हेडक्‍वाटर

सुप्रीम कोर्ट ने विनोद राय को लोढा समिति की सिफारिशों के आधार पर बीसीसीआई में नया संविधान लागू करने के लिए सीओए नियुक्‍त किया था। विनोद राय से बीसीसीआई के अधिकारियों से खींचतान में अब एक नया अध्‍याय जुड़ गया है। एक किनारे किए गए बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने मंगलवार को जनरल मैनेजर ( खेल विकास) प्रोफेसर रत्नाकर शेट्टी का कार्यकाल तीन महीने के लिए बढ़ा दिया। हालांकि शेट्टी को दिए गए विस्तार की वैधता पर सवालिया निशान बना रहेगा क्योंकि इसे विनोद राय की मंजूरी नहीं मिली है।

पद्म भूषण मिलने के बाद महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय सेना को कहा शुक्रिया
पद्म भूषण मिलने के बाद महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय सेना को कहा शुक्रिया

सीओए ने एंटी करप्‍शन यूनिट के पूर्व प्रमुख नीरज कुमार को दो महीने का विस्तार देते हुए शेट्टी को विस्तार देने के कार्यवाहक सचिव चौधरी के अनुरोध को नकार दिया था। शेट्टी बीसीसीआई के साथ पिछले तीन दशक से भी ज्यादा समय से जुड़े हुए हैं। नाराज चौधरी ने एंटी करप्‍शन यूनिट के नए प्रमुख अजित सिंह की नियुक्ति पर हस्ताक्षर ना करने का फैसला किया था। सीओए के निर्देश पर सीईओ राहुल जौहरी ने नियुक्ति को मंजूरी दे दी थी। हालांकि आज जब बीसीसीआई की घरेलू सीरीज के मीडिया अधिकारों की नीलामी हो रही थी, कार्यवाहक सचिव चौधरी ने शेट्टी को एक पत्र भेजकर उनके सेवा विस्तार को मंजूरी दे दी। ऐसा कार्यवाहक अध्यक्ष सी के खन्ना एवं कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी के साथ विचार विमर्श के बाद किया गया।

पत्र में लिखा गया कि बीसीसीआई के पदाधिकारी क्रिकेट संगठन के प्रति शेट्टी के अमूल्य सेवाओं को मान्यता देने में माननीय समिति के साथ संयुक्त रूप से सहमत हैं और इसलिए पुरानी शर्तों के साथ बोर्ड की ओर से उनका अनुबंध 30 जून, 2018 तक बढ़ाया जा रहा है। सुपीम कोर्ट द्वारा नियुक्त विनोद राय के साथ बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी और तीनों शीर्ष पदाधिकारियों (सी के खन्ना, अमिताभ चौधरी, अनिरूद्ध चौधरी) के बीच लड़ाई हर दिन तेज होती जा रही है और दोनों पक्षों में बातचीत के सभी जरिया बंद हो चुके हैं। 15 मार्च को राय ने प्रभावशाली तरीके से पदाधिकारियों से सभी कार्यकारी अधिकार छीनकर उन्हें सीईओ को रिपोर्ट करने पर मजबूर कर दिया था।
सुप्रीम कोर्ट ने विनोद राय को लोढा समिति की सिफारिशों के आधार पर बीसीसीआई में नया संविधान लागू करने का निर्देश दिया था। इसके बाद से ही बीसीसीआई के पदाधिकारियों से रोजाना के कामकाज में विनोद राय से झगड़ा जारी है।