Women IPL: Umpiring was in question during Supernovas, Trailblazers tie
Women IPL © screengrab

महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए आइ्रपीएल 2018 के क्‍वालिफायर-1 से पहले बीसीसीआई ने महिलाओं का टी-20 मैच कराया। सुपरनोवाज टीम की कप्‍तानी हरमनप्रीत कौर ने की तो ट्रेलब्‍लेजर्स की कमान स्‍मृति मंधाना को दी गई। स्‍मृति मंधाना की टीम ने 20 ओवरों में 129 रन बनाए। जवाब में हरमनप्रीत कौर सुपरनोवा ने इस मुकाबले को तीन विकेट से जीत लिया। इस आईपीएल मुकाबले में भारत की ही नहीं, बल्कि विदेशी टीमों की महिला खिलाड़ियों ने भी हिस्‍सा लिया।अगर महिला आईपीएल का ये प्रदर्शनी मैच कामयाब रहता है तो बीसीसीआई भविष्‍य में महिलाओं के लिए अलग से आईपीएल कराने पर भी विचार कर सकता है।

देख कर भी नो-बॉल पर अंजान बने रहे  थर्डअंपायर


इस मैच के दौरान अंपायरिंग चर्चा का विषय रहा। ट्रेलब्‍लेजर्स की टीम ने पहले बल्‍लेबाजी करते हुए तीसरे ओवर में 21 रन के स्‍कोर पर ही अपने दो विकेट खो दिए थे। मैदान पर बेथ मूनी 4(4) खेलने के लिए आई। उन्‍होंने आते ही एक चौका लगाया। चौथे ओवर में टीम के 26 के स्‍कोर पर उन्‍होंने मेगन शट के ओवर की तीसरे गेंद पर मिड ऑन की तरफ हवाई शॉर्ट लगाया। वेद कृष्णमूर्ति ने डाइव लगाकर इस कैच को पकड़ लिया।रिप्‍ले देखने पर साफ पता चला कि गेंदबाज मेगन शट का पैर लाइन से बाहर था, लेकिन इसके बावजूद भी इसे नो बॉल नहीं दिया गया। थर्ड अंपायर के इस डिसीजन पर सभी ने हैरानी जताई। कमेंटेटर भी यह कहते रहे कि इसे नॉ-बोल दिया जाना चाहिए, लेकिन टीवी अंपायर को ये नजर नहीं आया।