Womens Asia Cup 2018: Anuja Patil given out obstructing the field
Anuja Patil © Getty Images

भारतीय महिला क्रिकेट टीम को रविवार को महिला एशिया कप टी-20 टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में बांग्‍लादेश से हार का सामना करना पड़ा। इस रोमांचक फाइनल में एक ऐसा वाकया हुआ जिसे देख सभी दंग रह गए। भारतीय बल्‍लेबाज अनुजा पाटिल को इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के नए नियम के तहत मैदान से पवेलियन की राह पकड़नी पड़ी।

बांग्‍लादेश ने रचा इतिहास, भारत को हरा पहली बार जीता महिला एशिया कप टी-20 खिताब
बांग्‍लादेश ने रचा इतिहास, भारत को हरा पहली बार जीता महिला एशिया कप टी-20 खिताब

अनुजा को ‘ऑब्स्ट्रक्टिंग द फील्ड’ (मैदान में बाधा उत्पन्न करना) नियम के तहत आउट दिया गया। भारतीय टीम की पारी का 9वां ओवर चल रहा था। बांग्‍लादेश की ओर से इस ओवर को जहनारा आलम कर रही थीं। जहनारा ने दूसरी गेंद फेंकी। स्‍ट्राइक पर भारतीय कप्‍तान हरमनप्रीत कौर थीं। हरमनप्रीत ने गेंद को ऑफ स्‍टंप की ओर खेला जो गली के पास गई। इतने में नॉन स्‍ट्राइक एंड से अनुजा रन के लिए दौड़ पड़ीं।

अनुजा क्रीज के बीचो बीच पहुंच चुकी थीं। लेकिन बाद में हरमनप्रीत ने मना कर दिया और अनुजा को लौटना पड़ा। इसी बीच अनुजा जब लौट रही थीं तब वह अपनी दिशा बदल चुकी थीं। इतने में बांग्‍लादेशी फील्‍डर ने गेंद को थ्रो किया। थ्रो आने से पहले अनुजा क्रीज के अंदर पहुंच चुकी थीं। थ्रो उनसे टकराया भी नहीं।

इसके बाद बांग्लादेशी खिलाड़ियों ने अपील की। दोनों फील्ड अंपायरों ने निर्णय के लिए तीसरे अंपायर को रेफर किया। जहां अनुजा को ‘ऑब्स्ट्रक्टिंग द फील्ड’ यानी मैदान में बाधा उत्पन्न करने की वजह से आउट दे दिया गया। अनुजा उस समय तीन रन बनाकर खेल रही थीं।

क्या है ‘ऑब्स्ट्रक्टिंग द फील्ड’ नियम

‘ऑब्स्ट्रक्टिंग द फील्ड’ यानी मैदान में खेलते समय बाधा उत्पन्न करना या फिर किसी भी तरह से विकेट के सामने आना जब गेंदबाज थ्रो कर रहा हो। इसी की वजह से अनुजा पाटिल आउट हुईं। हालांकि जो थ्रो था वो विकेट के किसी भी तरह से स्टंप्स की लाइन में नहीं था।